ईरान की धमकी: अमेरिका नहीं माना तो दुनिया में होगा तेल का संकट

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (4 दिसंबर):  ईरान के राष्ट्रपति हसन रुहानी ने मंगलवार को अमेरिकी प्रतिबंधों के खिलाफ कड़ा रुख अपनाते हुए खाड़ी से कच्चे तेल की अंतरराष्ट्रीय बिक्री को बंद करने की चेतावनी दी। 

समनान प्रांत में एक रैली को संबोधित करते हुए रुहानी ने कहा, ''अमेरिका को पता होना चाहिए कि वह ईरान के तेल का निर्यात रोक नहीं सकता है। टीवी पर प्रसारित इस रैली में रुहानी ने कहा कि यदि अमेरिका ऐसा करने का प्रयास करता है तो फारस की खाड़ी से कोई तेल बाहर नहीं जाने दिया जाएगा। 

ईरान 1980 के दशक से ही अंतरराष्ट्रीय दबाव के मद्देनजर बार बार खाड़ी से तेल का निर्यात रोकने की धमकी देता रहा है लेकिन उसने ऐसा कभी किया नहीं है। 

ईरान और दुनिया की प्रमुख ताकतों के बीच 2015 में हुए परमाणु करार से अमेरिका मई में निकल गया था। उसके बाद अमेरिका ने ईरान पर प्रतिबंध फिर से लगाए थे और साथ ही दुनिया के देशों से ईरान से तेल की खरीद को शून्य पर लाने को कहा था। हालांकि, बाद में अमेरिका ने अस्थायी रूप से आठ देशों को इस मामले में कुछ छूट दी है। 

रूहानी ने जुलाई में भी खाड़ी का रास्ता बंद करने की धमकी दी थी। राष्ट्रपति ने इन प्रतिबंधों से देश की अर्थव्यस्था पर पड़ने वाले प्रभाव को नकारा है और कहा है कि मीडिया देश की समस्याओं को बढ़ा-चढ़ाकर बता रहा है। उन्होंने कहा कि इससे किसी तरह की मंदी या बेरोजगारी नहीं आने वाली है। लोगों को अखबारों में ऐसी बातें लिखनी छोड़ देनी चाहिए।रूहानी ने स्वीकार किया कि कुछ दिक्कतें आई थीं लेकिन दिसंबर में पेश होने वाले नए बजट में इसका समाधान दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि सरकार सभी छूट जारी रखेगी और सरकारी कर्मचारियों की सैलरी और पेंशन में 20 फीसदी की इजाफा किया जाएगा।