रचा इतिहास, दोनों पैर नहीं होने के बावजूद उठाया 310 किलो वजन

रियो (15 सितंबर): कहते हैं हिम्मत करने वालों की कभी हार नहीं होती। ऐसा ही कुछ कर दिखाया ईरान के पावरलिफ्टर सियामंद रहमान ने जिन्होंने ब्राजील के शहर रियो डी जनेरियो में चल रहे पैरालिंपिक खेलों में इतिहास रच डाला।

पावरलिफ्टर रहमान ने पैरालिंपिक खेलों के इतिहास में पहली बार 300 किलोग्राम से ज्‍यादा वजन उठाने का रिकॉर्ड बनाया है। उन्‍होंने 310 किलोग्राम का वजन उठाया है। इसी के साथ वह पैरालिंपिक खेलों के सबसे 'मजबूत' खिलाड़ी बन गए हैं।

रहमान 28 साल के हैं और उन्‍होंने पैरालिंपिक खेलों के सातवें दिन पुरुषों के 107 प्‍लस वजन वर्ग में 310 किलो का भार उठाकर गोल्‍ड मेडल जीता। अहम यह है कि पिछले पैरालिंपिक खेल लंदन 2012 के मुकाबले, रहमान ने अपनी जीत की मार्जिन को करीब दोगुना कर लिया है।

रहमान के दोनों पैर खराब हैं और वह वीलचेयर पर बैठे रहते हैं। दरअसल, जन्‍म के समय से ही वह अपने पैरों का इस्‍तेमाल नहीं कर सकते हैं। उनका वजन 169 किलो है और वह पहले भी दो बार वर्ल्‍ड रिकॉर्ड तोड़ चुके हैं।

वीडियो: [embed]https://www.youtube.com/watch?v=F9sVeIaMTB4[/embed]