तीसरे विश्व युद्ध की आहट, ईरान ने अमेरिका को दी मिसाइलों से जवाब देने की धमकी

तेहरान (4 फरवरी):  तीसरे विश्व युद्ध की आहत के बीच अमेरिका और ईरान के बीच तनाव लगातार बढ़ता जा रहा है। ईरान बलिस्टिक मिसाइल टेस्ट के बाद अमेरिका ने उसपर कई पाबंदी लगा दी है। लेकिन इन पाबंदियों से ईरान बैअसर दिख रहा है। ईरान के तेवर लगातार आक्रामक बनते जा रहे हैं। 

ईरान ने अमेरिका को चुनौती देते हुए कहा है कि वह रेवोल्यूशनरी गार्ड के युद्धाभ्यास के लिए मिसाइलों को तैनात करेगा। रेवोल्यूशनरी गार्ड से जुड़ी वेबसाइट पर बताया गया है कि उत्तरपूर्वी सेमनान प्रांत में युद्धाभ्यास का मकसद ‘खतरों से निपटने के लिए पूरी तैयारी’’ प्रदर्शित करने के लिए और अमेरिका की ओर से लगाए गए ‘अपमानजनक प्रतिबंधों’ के खिलाफ है। वहीं, रेवोल्यूशनरी गार्ड कमांडर ने शनिवार को कहा कि ईरान की सुरक्षा अगर खतरे में पड़ी तो वह दुश्मनों के खिलाफ अपने मिसाइलों का इस्तेमाल करेगा।

वेबसाइट ने कहा है कि इस अभ्यास में स्वदेश निर्मित विभिन्न तरह के रेडार और मिसाइल सिस्टम, नियंत्रण केंद्रों और साइबर युद्ध तंत्रों का इस्तेमाल किया जाएगा। बाद में वेबसाइट ने तैनात की जाने वाली मिसाइलों की सूची प्रकाशित की, जो 75 किलोमीटर तक की कम दूरी वाली मिसाइलें हैं। अमेरिका के राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप ने मध्यम दूरी की बलिस्टिक मिसाइलों के परीक्षण और यमन के विद्रोहियों को समर्थन देने को लेकर शुक्रवार को ईरान पर नए प्रतिबंध लागू किए थे।

ईरान के विदेश मंत्रालय के मुताबिक अमेरिका के नए कदमों के जवाब में ईरान इस क्षेत्र में आतंकवादी संगठनों की मदद करने में उनकी भूमिका के लिए कुछ अमेरिकी लोगों और कंपनियों पर कानूनी सीमाएं लागू करेगा। इन लोगों के नामों की सूची बाद में प्रकाशित की जाएगी।