ईरान ने कहा, ISIS की मदद कर रहा है अमेरिका, हमारे पास पुख्ता सबूत

नई दिल्ली (12 जून): आईएसआईएस को बढ़ावा देने का आरोप लगाते हुए सऊदी अरब, संयुक्त अरब अमीरात (UAE), मिस्र और बहरीन ने कतर के साथ सभी राजनयिक-कूटनीतिक संबंध समाप्त कर दिए हैं।

इसके बाद अब ईरान ने अमेरिका पर दुनिया के सबसे खुंखार आतंकी संगठन इस्लामिक स्टेट (ISIS) की मदद करने का आरोप लगाया है। ईरान के वरिष्ठ अधिकारियों का कहना है कि अमेरिका न केवल ISIS को सहारा दे रहा है, बल्कि उसके साथ मिलकर काम भी कर रहा है।

ईरानी अधिकारियों ने यह दावा भी किया कि उनके पास अपने आरोपों को साबित करने के लिए सबूत भी हैं। ईरानी अधिकारियों ने कहा कि उनके पास अपने आरोपों की पुष्टि के लिए कागजात हैं, लेकिन फिलहाल ईरान की ओर से किसी तरह का सबूत पेश नहीं किया गया है।

ईरान के सशस्त्र बल के डेप्युटी चीफ ऑफ स्टाफ मेजर जनरल मुस्तफा इजादी ने रविवार को कहा कि अमेरिका ISIS की मदद कर रहा है। उन्होंने कहा कि तेहरान के पास अपने आरोपों को सिद्ध करने के लिए पर्याप्त साक्ष्य हैं। ईरान की न्यूज एजेंसी के मुताबिक, इजादी ने कहा, 'अमेरिकी साम्राज्यवाद किस तरह इस पूरे मध्यपूर्वी एशिया के क्षेत्र में ISIS को सीधे-सीधे मदद दे रहा है, इसे साबित करने के लिए हमारे पास कागजात और तमाम जानकारियां मौजूद हैं।

ISIS ने इस्लामिक देशों को बर्बाद कर दिया और इतने बड़े स्तर पर जनसंहार किया।' इजादी के मुताबिक, ISIS को कथित तौर पर मदद देकर अमेरिका ने मध्यपूर्वी एशिया क्षेत्र में छद्म युद्ध शुरू कराया। इजादी ने कहा कि अमेरिका जैसी आक्रामक शक्तियां इस नई तरकीब से ईरान को नुकसान पहुंचाने की कोशिश कर रही हैं।