टूर्नामेंट से पहले ही लिया जा चुका था 'मांकडिंग' न करने का फैसला: IPL चेयरमैन राजीव शुक्ला


न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (26 मार्च): आईपीएल के सीजन-12 में सोमवार को खेले गए पंजाब बनाम राजस्थान के बीच हुए मुकाबले में पंजाब के कप्तान रविचंद्रन अश्विन द्वारा जोस बटलर को किए गए मांकडिंग रनआउट पर विवाद बढ़ता जा रहा है। इस बीच आईपीएल चेयरमैन राजीव शुक्ला ने ट्वीट किया, ‘जहां तक मुझे याद है वह कप्तानों और मैच रेफरी की बैठक थी और बतौर चेयरमैन मैं भी मौजूद था। इसमें तय किया गया था कि यदि दूसरे छोर पर खड़ा बल्लेबाज बाहर निकल भी आता है तो भी गेंदबाज शिष्टाचारवश उसे रन आउट नहीं करेगा।’  



उन्होंने कहा, ‘शायद वह बैठक कोलकाता में आईपीएल के किसी सत्र से पहले हुई थी। उसमें धोनी और विराट दोनों मौजूद थे।’  



क्या है मांकडिंग रनआउट:

आपको बता दें कि अश्विन द्वारा गेंद फेंकने से पहले ही नॉन स्ट्राइक पर खड़े राजस्थान के बल्लेबाज जोस बटलर क्रीज से बाहर निकल गए थे, जिसके बाद अश्विन ने नॉन-स्ट्राइकर छोर की बेल्स गिराकर उन्हें रनआउट कर दिया था। ऐसे रनआउट को मांकडिंग रनआउट कहा जाता है। कहने का मतलब है कि मैच के दौरान नॉन स्ट्राइकर एंड पर खड़ा बल्लेबाज, गेंदबाज के हाथ से गेंद छूटने से पहले क्रीज से बाहर निकले तो गेंदबाज उसे रन आउट कर सकता है। इसमें गेंद रिकॉर्ड नहीं होती लेकिन विकेट गिर जाता है।

मैच के बाद जब अश्विन से मांकडिंग और खेल भावना को लेकर उठ रहे सवाल के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा, 'मेरी ओर से यह बहुत सहज था। यह योजना नहीं थी या ऐसा कुछ भी नहीं था। यह खेल के नियमों के भीतर है।'

बता दें कि ऐसा पहली बार नहीं, जब जोस बटलर मांकडिंग के शिकार बने। 2014 में वनडे मुकाबले के दौरान श्रीलंका के सचित्रा सेनानायके ने बटलर को इसी अंदाज में रन आउट किया था, लेकिन चेतावनी देने के बाद। जब आश्विन ने जोस बटलर को आउट किया तो उन्हें  विश्वास ही नहीं हुआ कि इतने बड़े सीनियर खिलाड़ी ऐसा काम कर सकते हैं। अन्य कई खिलाडियों ने भी आश्विन की आलोचना की है।