Blog single photo

नीरव मोदी के खिलाफ जारी होगा रेड कॉर्नर नोटिस

बैंकों को बड़े पैमाने पर नुकसान और चकमा देने वाला भगोड़ा नीरव मोदी की विदेश यात्राओं पर लगातार सवालिया निशान खड़े होते रहे हैं। सवाल यह है कि भारत द्वारा पासपोर्ट रद्द करने के बाद भी नीरव मोदी लगातार विदेश यात्राएं कैसे कर रहा है। आखिर इंटरपोल के नोटिस के बावजूद भी भगोड़े नीरव को रोका क्यों नहीं जा रहा।

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (21 जून): बैंकों को बड़े पैमाने पर नुकसान और चकमा देने वाला भगोड़ा नीरव मोदी की विदेश यात्राओं पर लगातार सवालिया निशान खड़े होते रहे हैं।   सवाल यह है कि भारत द्वारा पासपोर्ट रद्द करने के बाद भी नीरव मोदी लगातार विदेश यात्राएं कैसे कर रहा है। आखिर इंटरपोल के नोटिस के बावजूद भी भगोड़े नीरव को रोका क्यों नहीं जा रहा।आपको बता दें कि 11 जून को सीबीआई ने कहा था कि उन्होंने इंटरपोल को नीरव मोदी के खिलाफ रेड कॉर्नर नोटिस जारी करने के लिए कहा था। वहीं 18 जून को सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि इंटरपोल द्वारा नीरव मोदी के खिलाफ 15 फरवरी को डिफ्यूजन नोटिस जारी किया गया।जानकारी के लिए आपको बता दें कि सीबीआई ने इंटरपोल से जिस रेड कॉर्नर नोटिस को जारी करने के लिए कहा था उसमें कई संवैधानिक शक्तियां हैं। इस नोटिस के जारी होते ही सभी देशों का कर्तव्य है कि वह अपने यहां शरण लिए भगोड़े को गिरफ्तार करें। प्रवर्तन निदेशालय और सीबीआई ने नीरव मोदी के खिलाफ यही नोटिस जारी करने के लिए कहा था लेकिन इंटरपोल ने अब तक रेड कॉर्नर नोटिस जारी नहीं किया है।आपको बता दें कि वहीं डिफ्यूजन नोटिस में इंटरपोल के जरिए पड़ोसी देशों से निवेदन किया जाता है कि वह भगोड़े पर नजर रखें और उसकी गतिविधियों की जानकारी संबंधित देश को देते रहें। इस नोटिस को सीधे कई इंटरपोल ऑफिसों में भेजा जा सकता है।

Tags :

NEXT STORY
Top