मोदी जिद के पक्के, पाक को दुनिया में अलग-थलग कर देंगे: PAK मीडिया

नई दिल्ली(17 अक्टूबर): आतंकवाद को पनाह देने और आतंकवादियों के खिलाफ कोई कारवाई ना करने के कारण पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ता नजर आ रहा है। पाकिस्तानी अखबार द नेशन में छपे एक लेख में कहा गया है कि आतंकवाद के खिलाफ कुछ नहीं करने के काऱण पाकिस्तान पर दुनियाभर में अलग-थलग का दवाब पड़ता जा रहा है।

-अखबार ने कहा गया है  मोदी की वजह से पाकिस्तान दुनिया में अलग-थलग पड़ने के कगार पर पहुंच गया है। मोदी ने पाकिस्तान में होने वाली सार्क समिट कैंसल करा दी। हमारे आर्टिस्ट को भारत में बैन करा दिया। वो किसी भी इंटरनेशनल फोरम पर हमारे मुल्क को नहीं छोड़ रहे।

- अखबार ने नवाज सरकार और आर्मी के लिए लिखा कि मुल्क में अब भी अच्छे और बुरे आतंकियों में फर्क किया जा रहा है 

- सोमवार को ‘द नेशन’ में पब्लिश आर्टिकल में गोवा में रविवार को खत्म हुई ब्रिक्स समिट का जिक्र किया गया। 

- इसमें लिखा गया- "मोदी ने बिना नाम लिए पाकिस्तान को आतंकवाद पैदा करने वाला मुल्क बता दिया। खास बात ये है कि मोदी के बयान से चीन भी सहमत दिखा और उसने भी टेररिज्म के खिलाफ पुख्ता एक्शन पर जोर दिया।" 

- आर्टिकल के मुताबिक, नई दिल्ली पाकिस्तान को अलग-थलग करने में कोई कोर-कसर बाकी नहीं रख रही है। इसके नतीजे भी दिख रहे हैं। मोदी के चलते पाकिस्तान में नवंबर में होने वाली सार्क समिट कैंसल कर दी गई। भारत में पाकिस्तानी कलाकारों को बायकॉट कर दिया गया। अब हालात ये हैं कि किसी भी इंटरनेशनल फोरम पर मोदी पाकिस्तान को छोड़ नहीं रहे हैं।

- अखबार ने आगे लिखा है, "पाकिस्तान तो अमेरिका में बैठे डिप्लोमैट्स को अपना पक्ष समझाने की कोशिश करता है। लेकिन देश और विदेश में हमें क्रिटिसाइज किया जा रहा है।"

- आर्टिकल के मुताबिक, "हालात ये हो गए हैं कि नवाज की पार्टी के ही सांसद राणा मोहम्मद अफजल नॉन स्टेट एक्टर्स के खिलाफ एक्शन ना होने की बात पब्लिकली कह रहे हैं। यही बात तो मोदी भी कह रहे हैं कि पाकिस्तान आतंकवाद को स्पॉन्सर कर रहा है।" 

- "राणा ने साफ कहा है कि वो जब फ्रांस गए तो वहां के लोगों ने उनसे पूछा कि आपका मुल्क हाफिज सईद जैसे आतंकी सरगनाओं पर एक्शन क्यों नहीं लेता?"

- "हैरानी की बात ये है कि सरकार और सेना बजाए आतंकियों पर सख्ती दिखाने के अपनी ताकत मीडिया पर आजमा रही है। जर्नलिस्ट को देश से बाहर जाने से रोका जा रहा है।"

- आर्टिकल के आखिरी हिस्से में पाकिस्तान सरकार को सलाह देते हुए लिखा गया, "पॉलिसी साफ होनी चाहिए। एक्शन दिखना चाहिए। पाकिस्तान को अब ये सोचना ही होगा कि देश के हित में क्या है?"

- "आतंकवाद को जड़ से खत्म करना होगा और इस काम में अच्छे या या बुरे का फर्क नहीं होना चाहिए। आर्मी और सरकार फैसला लेना होगा। अमेरिका हम पर दबाव डालता ही जा रहा है। चीन भी ये मांग कर सकता है।"

- "पाकिस्तान दुनिया में कभी भी अलग-थलग नहीं होना चाहेगा, क्योंकि अगर ऐसा हुआ तो नतीजे बेहद खतरनाक होंगे।"