इंटरनेशनल कोर्ट में 15 मई को होगी कुलभूषण जाधव मामले की अगली सुनवाई

नई दिल्ली ( 11 मई ): इंटरनैशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस (ICJ) भारतीय नागरिक कुलभूषण जाधव मामले की अगली सुनवाई 15 मई को करेगा। ICJ पाकिस्तान द्वारा जाधव को सुनाई गई फांसी की सजा पर मंगलवार को रोक पर लगा दी थी। बता दें कि अप्रैल में पाकिस्तान की सैन्य अदालत ने जाधव को फांसी की सजा सुनाई थी।


अंतरराष्ट्रीय अदालत में भारत की तरफ से पैरवी कर रहे वरिष्ठ वकील हरीश साल्वे ने भी कहा था कि इस मामले की अगली सुनवाई 15 मई को हो सकती है। साल्वे ने कहा कि जाधव की फांसी पर ICJ की रोक के फैसले पर पाकिस्तान की प्रतिक्रिया 'राजनीतिक' रही है। अगर कोई कानूनी मुद्दा उठेगा तो भारत उचित जवाब देगा।


बुधवार को विदेश मंत्रालय ने कहा कि कुलभूषण जाधव के मुद्दे पर भारत ने आईसीजे में जाने का निर्णय सावधानीपूर्वक विचार-विर्मश करने के बाद लिया। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें गैर-कानूनी रूप से पाकिस्तान में कैद कर के रखा गया था जहां उनका जीवन खतरे में था। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गोपाल बागले ने कहा कि, भारत ने उच्चायोग संपर्क (काउंसलर एक्सेस) के लिये 16 बार अपील की थी, लेकिन हर बार इसे इंकार कर दिया गया। हमने कई बार जाधव मामले में चलाई गई प्रक्रिया की जानकारी मांगी, लेकिन पाकिस्तान द्वारा इस मामले के दस्तावेजों से जुड़ी हमारी मांग पर कोई प्रतिक्रिया नहीं दी गई।


विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता से पूछा गया था कि भारत इस मामले को लेकर अंतरराष्ट्रीय अदालत में क्यों गया। इस पर बागले ने कहा कि पाकिस्तानी आर्मी कोर्ट के आदेश के खिलाफ जाधव के परिवार की अपील की स्थिति के बारे में कोई जानकारी नहीं है।


गौरतलब है कि भारत ने अंतरराष्ट्रीय अदालत में कहा था कि कुलभूषण जाधव को अपना पक्ष रखने का मौका नहीं दिया गया और ना ही उन्हें भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों से मिलने की इजाजत दी गई। जाधव की मां अवंति जाधव ने पिछले महीने पाकिस्तान की सर्वोच्च अदालत में जाधव की फांसी के खिलाफ याचिका दायर की थी।