घायल थाना इंचार्ज ने बताया ऐसे गोलियां बरसाता भागा आनंदपाल

नई दिल्ली (23 जुलाई): राजस्थान का कुख्यात बदमाश आनंदपाल एक बार फिर पुलिस पर फायरिंग कर फरार हो गया। इस मुठभेड़ में जसवंतगढ़ थाना इंचार्ज घायल हो गए। दरअसल थाना इंचार्ज लादू सिंह गश्त पर थे, उसी दौरान उन्हें एक संदिग्ध बोलेरो दिखी। जिसे पूछताछ के लिए रोका तो अंदर गैंगस्टर आनंदपाल दिखा। आनंदपाल की गोलीबारी में घायल लादूराम का जयपुर के एसएमएस हॉस्पिटल में इलाज चल रहा है।

थाना इंजार्ज के जरिए जानिए मुठभेड़ की पूरी कहानी...

- थाना इंचार्ज ने बताया कि 'मैं अपने चार सिपाहियों के साथ जसवंतगढ़ थाने से रात 11: 30 बजे गश्त के लिए निकला था।' - 'हम पुलिस जीप में थाने से करीब 23 किमी दूर आनंदपाल सिंह के गांव सांवराद पहुंचे। वहां बिना नंबर की बोलेरो खड़ी थी। उस पर काले शीशे लगे थे।' - 'कार को देखते ही मन में ख्याल आया कि कहीं आनंदपाल तो नहीं। हमने जैसे ही बोलेरो के पास जाकर रोका। बोलेरो चालक उसे स्टार्ट कर तेजी से भगाने लगा। तब लगा मामला गड़बड़ है।' - 'हमने उसका पीछा शुरू कर दिया। करीब 100 मीटर पीछा करने के बाद हम बोलेरो के नजदीक पहुंच गए और चालक को बोलेरो रोकने का इशारा किया, लेकिन वह नहीं रुका। तब हमारे ड्राइवर ने ओवरटेक करने की कोशिश की। दोनों कार सौ की स्पीड में बराबर चलने लगी।' - 'इसी दौरान बोलेरो के पीछे की सीट वाली खिड़की का शीशा उतरा, जहां आनंदपाल बैठा था। उसने एके-47 दिखाकर मुझे गाली दी।' - 'मैंने भी तत्काल लोडेड पिस्टल निकाली। दोनों तरफ से फायर हुए। तभी एक गोली मेरे हाथ के अंगूठे और दोनों अंगुलियों पर लगी। गोली से दोनों अंगुलियां कट गई।' - 'एक गोली दाहिनी तरफ बगल में लगकर आर-पार निकल गई। तीसरी गोली जीप के गेट पर लगी। चौथी गोली आगे के शीशे में होकर स्टेयरिंग पर लगी। इसके बाद हमारी जीप करीब 50 मीटर चलने के बाद बंद हो गई।' -ड्राइवर ने जीप को दोबारा स्टार्ट करने की कोशिश की, लेकिन वह स्टार्ट नहीं हुई। साथी सिपाहियों ने लाडनूं थाने और नागौर कंट्रोल रूम में फोन कर घटना की जानकारी दी। - 'सिपाही जीप को धक्का मारकर स्टार्ट करने में जुटे रहे। बाद में पता चला कि बोनट में घुसी गोली से जीप की वायरिंग कट गई थी, इस कारण वह स्टार्ट नहीं हो रही थी।' - 'इसी दौरान गांव के कुछ लोग आए, लेकिन किसी ने कोई सहायता नहीं की। करीब आधा घंटे बाद लाडनूं पुलिस मौके पर पहुंची और मुझे लाडनूं अस्पताल लेकर गए। जहां से डाक्टरों ने जयपुर रेफर कर दिया।'

एक दिन पहले फेसबुक पर लिखा, धमाके के साथ आऊंगा और आया भी: कुख्यात अपराधी आनंदपाल के नाम से चल रहे फेसबुक की एक वॉल पर गृह मंत्री गुलाबचंद कटारिया के नागौर आने से एक दिन पहले बुधवार शाम को 4:33 बजे हथियारों की फोटो के साथ नई पोस्ट डाली गई। इसमें लिखा गया कि कमिंग बैक विद धमाका और यहीं हुआ, पोस्ट के 32 घंटे बाद सच में ऐसा ही हुआ। पुलिस पर एक बार फिर फायरिंग हुई।