कश्मीर घाटी में घुसे 60 से ज्यादा फिदायीन

नई दिल्ली(29 जून): सीमा पार से 60 फिदायीन कश्मीर घाटी में घुस आए हैं। इनको खासतौर से सेना, बीएसएफ, सीआरपीएफ, एसएसबी और जम्मू कश्मीर पुलिस को निशाना बनाने का निर्देश दिया गया है।

एक अंग्रेजी अखबार  के मुताबिक इस बात के तब सुराग हाथ लगे जब एजेंसियों ने लश्कर ए तैयबा के डिविजनल कमांडर अबू दुजाना की तलाश शुरू की। दुजाना ने ही पिछले सप्ताह सीआरपीएफ के काफिले पर हमला करवाया जिसमें 8 जवान शहीद हो गए। पिछले साल उधमपुर में बीएसएफ के जवानों पर हमले के तार भी उसी से जुड़े हैं।

समाचार पत्र ने सूत्रों के हवाले से बताया कि दुजाना घाटी में ही है और वह पाकिस्तान से आए उच्च प्रशिक्षित आतंकियों को सुरक्षा बलों की गतिविधियों की जानकारी लेने,लॉजिस्टिक्स उपलब्ध कराने और उनके ठहरने व हमले की जगह तक पहुंचाने में मदद कर रहा है।

मंगलवार को खबर आई थी कि मुंबई हमले के मास्टरमाइंड हाफिज सईद के दामाद खालिद वालीद पंपोर में सीआरपीएफ काफिले पर हमले के पीछे है जिसे दुजाना से सहयोग मिला। अधिकारियों ने कहा कि 25 जून को हुए हमले में पाकिस्तान का हाथ होने की इशारा करने वाले कुछ स्पष्ट सबूत मिलने के बाद सीआरपीएफ एनआईए से जांच करवाने की सोच रही है। वैसे जम्मू कश्मीर पुलिस इसकी जांच कर रही है।

जम्मू कश्मीर के डीजीपी राजेन्द्र कुमार ने सोमवार को बताया कि उनके पास इस मामले में अहम सुराग हाथ लगे हैं। वहीं सीआरपीएफ के महानिदेशक दुर्गा प्रसाद ने कहा,हमारे कुछ जवान बुलेटप्रुफ जैकेट पहनते हैं जबकि कुछ नहीं पहनते। सिर्फ बुलेटप्रुफ जैकेट पहनने से समस्या का सामाधान नहीं जाएगा। हमें और भी कुछ करना होगा और हम इस पर काम कर रहे हैं। प्रसाद ने सोमवार को कहा था कि जम्मू कश्मीर पुलिस की मदद से सुरक्षा बल घाटी में गाडिय़ों की जांच बढ़ाएंगे ताकि वेष बदलकर यात्रा कर रहे आतंकियों को पकड़ा जा सके।