करन का कंगना पर हमला, कहा- अगर इंडस्ट्री बुरी है तो छोड़ दें

मुंबई(6 मार्च): बाॅलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत के साथ काॅफी विद करण का लेटेस्ट एपिसोड दर्शकों के लिए काफी धमाकेदार रहा। हालिया रिलीज फिल्म रंगून के को-एक्टर सैफ अली खान के साथ शो में पहुंची कंगना का दर्द साफ दिखा था। उन्हें वो भी याद आया जब करण जौहर ने उनकी अंग्रेजी का मजाक उड़ाया था। कंगना ने करण जौहर को बाॅलीवुड में भाई-भतीजावाद का झंडाबरदार कह डाला था। लगता है इससे आहत करण जौहर भी काफी कुछ कहना चाहते थे जो वो उस वक्त नहीं बोल पाए। क्योंकि उन्हें लगता है कि वो प्लेटफाॅर्म कंगना की बात रखने के लिए थी। इसलिए जब एक दूसरे इवेंट में करण बतौर गेस्ट पहुंचे तो उन्होंने कंगना को लेकर अपने मन की भड़ास निकाली।

करन ने कहा है कि कंगना को अगर बॉलीवुड इंडस्ट्री इतनी बुरी लगती है तो उन्हें इसे छोड़ देना चाहिए। करन ने कहा है, ‘शो पर वो मेरी गेस्ट थीं जो भी उन्होंने कहा मैंने सुना।  उनको अपनी राय रखने का पूरा हक है, लेकिन उन्होंने मुझे भाई भतीजावाद का झंडा लेकर चलने वाला कहा। इस पर मुझे इतना ही कहना है कि शायद वो इस बात को नहीं समझती कि उन्होंने क्या कहा है। नेपोटिज़्म क्या है? क्या मैं अपने बेटे, बेटी या भतीजे के साथ काम कर रहा हूं? उन 15 फिल्म मेकर्स का क्या जो इस इंडस्ट्री में काम कर रहे हैं? कोई तरून मनसुखानी, शकुन बत्रा, शशांक खेतान या पुनीत मल्होत्रा के बारे में क्यों बात नहीं करता. इन सभी का कोई फिल्मी बैकग्राउंड नहीं है।’

बता दें कि करन जौहर ने महेश भट्ट की बेटी आलिया भट्ट और डेविड धवन के बेटे वरूण धवन को फिल्म ‘स्टुडेंट ऑफ द ईयर’ से लॉन्च किया था। इस बारे में बोलते हुए करन ने कहा, ‘जहां तक एक्टर्स का सवाल है तो मैंने सिर्फ आलिया भट्ट और वरूण धवन को लॉन्च किया है जो इस इंडस्ट्री से है।  सिद्धार्थ मल्होत्रा को भी किया है जिनका कोई फिल्मी बैकग्राउंड नहीं है.। इसलिए मुझे समझ नहीं आ रहा कि कंगना के कहने का मतलब क्या था।’

आगे उन्होंने कहा, ‘कंगना को हर समय अगर ये लगता है कि उन्हें विक्टिमाइज किया जा रहा है तो उन्हें फिल्म इंडस्ट्री छोड़ देनी चाहिए.।उनके ‘मूवी माफिया’ कहने का क्या मतलब था? उनके हिसाब से हम यहां क्या कर रहे हैं? यहां बैठे हैं और उन्हें काम नहीं दे रहे हैं? क्या इससे हम मूवी माफिया बन जाते हैं? हमारी जो च्वाइस है वो काम करते हैं। मैं ऐसा करता हूं क्योंकि मैं शायद कंगना के साथ काम करने में दिलचस्पी नहीं रखता हूं, और इस वजह से मैं मूवी माफिया बन जाता हूं।

इससे ये साबित होता है कि मैं एक ऐसा आदमी हूं जिसके अपने विचार हैं.’

करन ने कहा, ‘शो पर कंगना ने जो भी कहा मैंने उसे उसी तरह से दिखाया। मैंने  उसमें से कुछ भी कट नहीं किया। मैंने उन्हें बोलने के लिए एक प्लेटफॉर्म दिया और यहां मुझे प्लेटफॉर्म मिला है तो जो मैं चाहता हूं बोल रहा हूं। मैं बस इतना ही कहना चाहता हूं कि मैं कंगना के साथ अब और वुमेना कार्ड और विक्टिम कार्ड नहीं खेल सकता. फिल्म इंडस्ट्री आपको कितना आतंकित करती है ऐसी दुख भरी कहानी सुनाकर आप हर समय विक्टिम नहीं हो सकते हैं। अगर ऐसा है तो फिर छोड़ दीजिए।’