इंद्राणी ने जेल में सेक्सुअल हैरेसमेंट की धमकी का लगाया आरोप, CBI कोर्ट ने पेश करने का दिया आदेश

नई दिल्ली (27 जून): महाराष्ट्र के भायखला जेल में बंद शीना बोरा मर्डर केस की मुख्य अभियुक्त इंद्राणी मुखर्जी के वकील ने आरोप लगाया है कि जेल कर्मचारियों ने इंद्राणी मुखर्जी की पिटाई की है और सेक्सुअल हैरेसमेंट की धमकी दी है।


उन्होंने स्पेशल सीबीआई कोर्ट में एक याचिका दायर कर इंद्राणी को सुरक्षा देने की डिमांड की है। कोर्ट ने उनकी याचिका स्वीकार करते हुए बुधवार को इंद्राणी को कोर्ट के सामने पेश करने का आदेश दिया है।


इंद्राणी के वकील ने कोर्ट में जो याचिका दायरा की है उसके मुताबिक, इंद्राणी की बॉडी पर चोट के कई निशान हैं। उनके हाथ और सिर म चोट लगी है।


इस हंगामे के बाद सोमवार को जेल प्रशासन ने इंद्राणी मुखर्जी समेत 200 महिला कैदियों के खिलाफ जेल में हिंसा भड़काने का केस दर्ज किया। पुलिस की जांच में सामने आया है कि इंद्राणी ने महिला कैदियों को हिंसक प्रदर्शन के लिए उकसाया और बच्चों को ह्यूमन शील्ड के तौर पर इस्तेमाल करने को कहा। साथ ही उसने कैदियों को किस तरह विरोध-प्रदर्शन करें, ये भी बताया।


महिला कैदियों का आरोप है कि 23 जून को शेटे को कथित तौर पर जेल के एक अधिकारी ने थप्पड़ जड़ा था और उसी दिन उसकी मौत हो गई थी। शेटे पर अंडे चुराने का आरोप था। पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट में खुलासा हुआ कि मंजुला के सिर पर कई जख्म थे और उसे अंदरूनी चोट भी लगी। पीएम रिपोर्ट के बाद जेल की सुपरिंटेंडेंट मनीषा पोखरकर और 5 गार्ड्स के खिलाफ भी हत्या का केस दर्ज किया गया है।


इंद्राणी समेत करीब 200 सजायाफ्ता और विचाराधीन कैदियों के खिलाफ गार्ड्स के साथ मारपीट करने और जेल की छत पर चढ़कर हिंसकर प्रदर्शन करने के लिए केस दर्ज किया गया है। बता दें कि भायखला जेल में महिला कैदियों को अपने 6 साल के बच्चों के अपने साथ रखने की इजाजत है।