भारत-नेपाल संबंधों की तुलना किसी दूसरे देश से नहीं हो सकती-कमल थापा

नई दिल्ली (11 जून):नेपाल के उपप्रधानमंत्री कमल थापा ने कहा कि भारत और नेपाल के बीच संबंध पटरी पर लौट आये है और नेपाल अपने राजनीतिक बदलाव के लिए भारत की महत्वपूर्ण भूमिका की उम्मीद करता है। थापा ने ऑबजर्बर रिसर्च फाउंडेशन द्वारा आयोजित 'भारत और नेपाल के संबंधों में वर्तमान प्रगति' विषय पर आयोजित सम्मेलन में कहा, कि नेपाल के लोकतांत्रिकरण में भारत एक मूल्यवान सहयोगी है।

थापा ने कहा कि भारत और नेपाल के संबंध अद्वितीय और विशेष हैं और कोई नेपाल की भारत और चीन की विदेश की नीति की एक साथ तुलना नहीं कर सकता। उन्होंने कहा,यह बिल्कुल भी समान नहीं है। हर देश का अपना चरित्र होता है और विदेश नीति भी उसी हिसाब से बदलती है। थापा ने संवाददाताओं से बात करते हुए कहा, हाल में हुई गलतफमही को सुलझा लिया है और हमारे रिश्ते वापस पटरी पर आ गए हैं।

जून-जुलाई के दौरान भारत नेपाल के बीच 13 दौर की द्विपक्षीय बैठकें आयोजित की जानी है, जो इस बात का सबूत है कि हमारे रिश्ते अच्छे हैं।"थापा तीन के दौरे पर भारत आएं है, जो कि पिछले 8 महीनों में उनकी पांचवी यात्रा है। थापा ने बताया, हमने नए संविधान के लागू होने का चार महीनों में ही उसमें संशोधन किया। अगर जरूरत होगी तो इसमें आगे भी संशोधन किया जाएगा। उन्होंने कहा, लोकतंत्र में शासन का सबसे अच्छा रूप होने के बावजूद आप हर किसी को खुश नहीं रख सकते।