ट्रंप प्रशासन ने पहले भारतीय-अमेरिकी सर्जन जनरल से पद छोड़ने को कहा

वॉशिंगटन (22 अप्रैल): अमेरिका की ट्रंफ सरकार ने एक और भारतीय-अमेरिकन को पद छोड़ने को कहा है। ट्रंप प्रशासन ने पूर्व में ओबामा सरकार की ओर से नियुक्त किए गए भारतीय-अमेरिकी सर्जन जनरल विवेक मूर्ति को पद छोड़ने के लिए कहा है। बताया जा रहा है कि विवेक मूर्ति की जगह ट्रंफ प्रशासन अपनी पसंद के किसी शख्स को इस पद पर बैठाना चाहता है। आपको बता दें कि सीनियर पदों पर बैठे लोगों में मूर्ति ऐसे दूसरे इंडो-अमेरिकन हैं, जिनपर ट्रंप प्रशासन की कार्रवाई हुई है। ऐसे पहले शख्स थे प्रीत भरारा, जिनके यूएस अटॉर्नी जनरल पद से इस्तीफा देने से इनकार करने के बाद उन्हें बर्खास्त कर दिया गया था।


अमेरिकी स्वास्थ्य एवं मानव सेवा मंत्रालय ने शुक्रवार को एक बयान में कहा कि यूएस पब्लिक हेल्थ सर्विस कमीशन्ड कॉर्प्स’ के नेता मूर्ति से कहा गया कि नए ट्रंप प्रशासन में सुगम सत्ता हस्तांतरण में मदद करने के बाद अब वह सर्जन जनरल के पद से इस्तीफा दे दें। मूर्ति को सर्जन जनरल के पद से मुक्त कर दिया गया है और वह कमीशन्ड कॉर्प्स के सदस्य के तौर पर अपनी सेवाएं जारी रखेंगे।


39 साल के अमेरिका के 19वें सर्जन जनरल मूर्ति इस पद पर बैठने वाले पहले भारतीय-अमेरिकी रहे हैं। मूर्ति का परिवार भारत में कर्नाटक का रहने वाला है। उनका जन्म इंग्लैंड में हुआ। जब वह तीन साल के थे, उनका परिवार अमेरिकी राज्य फ्लॉरिडा के मियामी शिफ्ट हो गया। उन्होंने येल स्कूल ऑफ मेडिसीन से एमडी की डिग्री हासिल की है। वहीं, येल स्कूल ऑफ मैनेजमेंट से एमबीए भी किया है। फिलहाल वह बॉस्टन में प्रैक्टिस कर रहे हैं।