एयर इंडिया को खरीदने की इंडिगो ने जताई इच्छा

नई दिल्ली ( 29 जून): विमानन बाजार की सबसे बड़ी कंपनी इंडिगो ने एयर इंडिया में हिस्सेदारी खरीदने के लिए औपचारिक तौर पर प्रस्ताव सरकार के सामने रखा है। बुधवार को ही केद्रीय मंत्रिमंडल ने एयर इंडिया के विनिवेश को सैद्धांतिक तौर पर मंजूरी दी। अब एक कमेटी बनायी गयी है जो विनिवेश के तौर-तरीके के बारे में सुझाव देगी और फिर उस पर नए सिरे से कैबिनेट विचार करेगी।

सिविल एविएशन सचिव आरएन चौबे ने यह जानकारी दी। चौबे ने कहा, 'कल हुए कैबिनेट फैसले के बाद इंडिगो की तरफ से एयर इंडिया को लेकर इच्छा जताई गई। उन्होंने कहा कि एयर इंडिया में उनकी काफी रूचि है।'

डायरेक्टरेट जनरल ऑफ सिविल एविएशन डेटा के आंकड़ों की मानें तो एयर इंडिया के पास 118 एयर क्राफ्ट हैं। जिसमें सफर करने वाले यात्रियों की संख्या सबसे ज्यादा है। वहीं न्यू यॉर्क, शिकागो और लंदन जैसे शहरों में इसके पास पार्किंग स्लॉट भी हैं, इसके अलावा मुंबई जैसे व्यस्त एयरपोर्ट पर इसके पास सुबह के समय 18 डिपार्चर स्लॉट हैं।

एयर इंडिया के तीन सबसे बड़े फायदेमंद उपभोक्ताओं में एयर इंडिया एक्सप्रेस, एयर इंडिया ट्रांसपोर्ट सर्विस और AI-SATS शामिल हैं। वहीं सिक्के का दूसरा पहलू यह है कि बढ़ते कर्जे की वजह से सरकार ने एयर इंडिया से बाहर निकलने का मन बनाया है। 2014 में सत्ता में आने के बाद मोदी सरकार ने इसमें 16 हजार करोड़ रुपये निवेश किए, लेकिन अब सरकार इसे लेकर कोई और बड़ा जोखिम नहीं उठाना चाहती है।