विदेश दौरे पर जा रहे हैं, पढ़ें ये खबर, सरकार ने किया है बड़ा बदलाव

नई दिल्ली(9 जुलाई): सरकार ने विदेश यात्रा से लौटने वालों के लिए खरीद सीमा 5,000 रुपये से बढ़ाकर अब 25, 000 हजार कर दी है। सरकार के इस कदम से अब विदेश दौरे से आने वालों को क्रेडिट कार्ड प्रदाता को ज्यादा विनिमय शुल्क के भुगतान से बचने में मदद मिलेगी।

उत्पाद एवं सीमा शुल्क बोर्ड(सीबीईसी) ने भारत से भूटान और नेपाल के अलावा अन्य देशों की यात्रा करने वालों के लिए नियमों में संशोधन किया है। पिछले साल दिसंबर में पाकिस्तान और बांग्लादेश के अलावा सभी भारतीय निवासी और विदेशियों को 25,000 हजार नकद के तौर पर रखने की इजाजत दी थी।

इसके अलावा शुल्क मुक्त दुकानों से खरीद से संबधित नियमों में भी बदलाव किया गया। इसका मतलब यह है कि आप भारतीय मुद्रा में 25,000 रुपये तक का भुगतान कर सकते हैं और बाकी विदेशी मुद्रा में भुगतान किया जा सकता है। हालांकि भारतीय किसी भी प्रकटीकरण आवश्यकताओं के बिना 5000 डॉलर नकदी तक ले जा सकते हैं। जबकि संशोधित बैगेज नियम चॉकलेट, परिधान, खिलौने और 50,000 रुपये प्रति व्यक्ति के अन्य उत्पादों के शुल्क मुक्त आयात की अनुमति है।

सोना, चांदी और फ्लैट स्क्रीन टीवी सेट जैसी वस्तुएं 50,000 रुपये कैप से बाहर हैं। कस्टम अधिकारियों ने बताया कि ऐसे में 50,000 रुपये से ज्यादा की खरीद पर 36 फीसद ड्यूटी का सामना करना पड़ सकता है, भले ही वह एक शुल्क मुक्त दुकान से खरीदा गया हो। 

हाल के महीनों में सरकार ने विदेशों में की गई खरीद पर और शुल्क मुक्त दुकानों से सीमा में ढील दी। अपनी ताजा अधिसूचना में सीबीईसी ने कहा कि शुल्क मुक्त दुकानों से कहा है कि वे अन्य मुद्राओं के अलावा भारतीय रुपए में भी कीमतों को प्रदर्शित करें। बुधवार को जारी किए एक सर्कुलर में सीबीईसी ने यह भी सुझाव दिया कि पारदर्शिता और निष्पक्ष व्यवहार के लिए उन्हें वाणिज्यिक बैंकों द्वारा प्रकाशित विनिमय की दर को भी प्रदर्शित करना चाहिए।