सऊदी अरब, यूएई में नौकरी के लिए जाना चाहते हैं, पहले जान लीजिए इन बातों को...

डॉ. संदीप कोहली, नई दिल्ली (2 अगस्त):  विदेश राज्‍यमंत्री जनरल वीके सिंह जेद्दा में फंसे 10,000 भारतीयों की मदद के लिए आज रात सऊदी अरब रवाना होंगे। जेद्दा पहुंचकर वीके सिंह देश वापसी के इच्छुक भारतीयों के लिए औपचारिकताओं को भी अंतिम रूप भी देंगे। साथ ही उनके मंत्रिमंडल सहयोगी एमजे अकबर सऊदी के शासकों से बात कर बेरोजगार भारतीयों की समस्या का हल निकालने की कोशिश करेंगे। विदेश मंत्रालय के अधिकारियों ने बताया कि वीके सिंह कल सुबह जेद्दा पहुंच जाएंगे और शुक्रवार शाम तक लौट आएंगे। सऊदी की अर्थव्यवस्था में बड़े बदलावों से हजारों भारतीयों की नौकरी चली गई थी। आर्थिक तंगी के कारण उन्हें खाने के लाले तक पड़ गए । इस संकट से निपटने के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज खुद आगे आई। जहां विदेश मंत्रालय इस संकट से निपटने की कोशिश कर रहा है वहीं इस संकट ने उस मुसीबत की तरफ हमारा ध्‍यान दिलाया है जिसे हम नजरअंदाज करते रहे हैं। 

ज्यादा पैसे के लिए जाते हैं देश से बाहर...

- गौरतलब है कि अरब देशों में सऊदी अरब ही मात्र ऐसा देश है जहां 17 लाख से भी ज्यादा भारतीय कामगार हैं। - कुवैत में 5.79 लाख, बेहरीन में 3.50 लाख, कत्तर में 5 लाख, यूएई में 17 लाख और ओमान में 5.57 लाख भारतीय कामगार हैं। - पंजाब, यूपी, आंध्र और राजस्थान से ज्यादातर ड्राइवर, आपरेटर, प्लंबर, गार्ड, टायर मैन, इलेक्ट्रिशियन और वेल्डर वहां कंपनियों में काम कर रहे हैं। - भारतीय कामगार खाड़ी देशों में मिलने वाली बड़ी तनख्‍वाह से जरूर आकृषित होते हैं, लेकिन वहां पहुंचने के बाद वह असलियत से रूबरू होते हैं।  - आंकड़ों पर अगर नजर डाली जाए तो पता चलता है कि खाड़ी देशों में काम कर रहे 87 फीसद भारतीय किसी न किसी उत्‍पीड़न के शिकार हुए हैं।

क्या कहती है रिपोर्ट...

- रिपोर्ट के मुताबिक गल्‍फ कोऑपरेशन कांउसिल (GCC) के इन देशों में काम कर रहे भारतीयों को हमेशा उत्‍पीड़न का शिकार होना पड़ता है। - एक वेबसाइट की ओर से जारी रिपोर्ट में इस सच से जुड़े कुछ डरा देने वाले तथ्‍य समाने आए हैं।  - कैसे खाड़ी के नौ देशों में काम और रोजगार के नाम पर भारतीयों का उत्‍पीड़न किया जा रहा है। - 20 जुलाई 2016 को लोकसभा में विदेश मंत्रालय की ओर से खाड़ी देशों में मौजूद भारतीयों की बुरी हालत के बारे में बताया गया था। - छह देशों में मौजूद भारतीय दूतावास में करीब 55,199 भारतीयों ने उत्‍पीड़न की शिकायत दर्ज कराई है। - इन 55,199 शिकायतों में सबसे ज्‍यादा 13,624 शिकायतें कतर में बसे भारतीयों ने दर्ज कराई थी। - सऊदी अरब से 11,195 और कुवैत से 11,103 भारतीयों ने उनका उत्‍पीड़न होने की बात कही। - वहीं मलेशिया से भी 6,346 भारतीयों ने उत्‍पीड़न की बात दूतावास को बताई थी। - ओमान से 5,173, यूएई से 4,530, बहरीन से 2,518 भारतीयों को उत्‍पीड़त किया गया।

कैसे करती है कंपनियां शोषण...

- काम करने वाले भारतीयों ने तनख्‍वाह न मिलने, देर से मिलने या फिर कम मिलने की बात कही। - शारीरिक शोषण के अलावा उनके VISA और लेबर कार्ड का नवीकरण भी नहीं कराया जाता। - अगर कभी वह बीमार पड़े तो फिर उनके इलाज के लिए भी पैसे तक नहीं दिए जाते। - जबरदस्‍ती उनका वीजा और पासपोर्ट रख लिया जाता है और उन्‍हें छुट्टी नहीं मिलती है। - खाड़ी देशों में काम करने वाले भारतीयों में से हर साल 69 की किसी ना किसी कारण मौत हो जाती है।

जेल तक जाना पड़ा...

- 7,213 भारतीयों को खाड़ी देशों में जेल की सजा सुनाई गई थी। - सऊदी अरब में सबसे ज्‍यादा 1,697 भारतीयों को जेल भेजा गया। - इसके बाद यूएई में 1,143 भारतीयों को जेल हुई।