टैंक में आई खराबी, अंतरराष्ट्रीय सैन्य प्रतियोगिता से बाहर हुआ भारत

नई दिल्ली (13 अगस्त): रूस के अलाबीनो रेंज में चल रहे इंटरनेशनल टैंक बैथलॉन 2017 से भारत बाहर हो गया है। टैंकों में तकनीकी खराबी के चलते भारतीय सेना को इस प्रतियोगिता से बाहर होना पड़ा। एक अधिकारी ने कहा, 'पहले टैंक की फैन बेल्ट टूट गई। इसके बाद रिजर्व टैंक को रेस में भेजा गया लेकिन सिर्फ दो किलोमीटर की दौड़ के बाद ही इसका पूरा इंजन ऑइल लीक हो गया। यह टैंक रेस पूरी ही नहीं कर पाया। बदकिस्मती से भारतीय टीम डिस्क्वॉलिफाइ हो गई।' 

रूस के आर्मी गेम में सभी देशों के टैंक का मुकाबला हुआ जिसमें भारत ने भी हिस्सा लिया था। भारतीय सेना इस प्रतियोगिता के दूसरे राउंड में भी चली गई थी। पहले ही राउंड में रूस ने बाजी मारी थी और भारत चौथे नंबर पर आया था। 

रूस में निर्मित टी-90एस टैंकों को काफी मजबूत और सक्षम माना जाता है लेकिन इन टैंकों में मशीनी खराबी आ गई। वहीं रूस, चीन, बेलारूस और कजाखस्तान के युद्धक वाहन फाइनल में पहुंच गए।  2001 से 8525 करोड़ रुपये में 657 टी-90एस 'भीष्म' टैंकों का आयात किया गया। इसके बाद इन टैंकों को भारत में ही बनाया जा रहा है। 

रेस में रूस और कजाकिस्तान T-72B3 टैंक, बेलारूस T-72 और चीन 96बी टैंक के साथ शामिल हुआ है। वहीं भारत ने रूस द्वारा डिजाइन किए गए T-90 टैंक के साथ उतरने का फैसला किया था। इस साल इस प्रतियोगिता में कुल 19 देशों ने हिस्सा लिया था।