ये हैं भारत की सबसे घातक कमांडो फोर्स, पलक झपकते ही दुश्मन का करते हैं खात्मा

नई दिल्ली(2 अक्टूबर): भारतीय सेना की स्पेशल फोर्स ने 28 सितंबर को पीओके में घुसकर कई आतंकी ठिकानों को तबाह कर दिया। इन स्पेशल फोर्स के जाबांजों की जमकर तारीफ हो रही है। लेकिन क्या आप जानते है भारत के ऐसे फोर्सेज के बारें  में जो  दुनिया के सबसे खतरनाक और मशहूर फोर्स में शामिल है....

1. मार्कोस फोर्स

मार्कोस के पास करीब 1200 कमांडो हैं, इसका गठन 1987 में किय गया था. यूएस नेवी सील के बाद यह एकलौती ऐसी स्पेशल फोर्स है जो पूरे हथियारों के साथ पानी में भी दुश्मन का मुकाबला कर सकती है.ये इंडियन नेवी की स्पेशल फोर्स होती है।

2. पैरा कमांडोज फोर्स

मारकोस के बाद नंबर आता है पैरा कमांडोज़ का जो भारतीय सेना की सबसे ज्यादा प्रशिक्षित स्पेशल फोर्स मानी जाती है। इनका गठन 1965 भारत पाक युद्ध के दौरान हुआ था।इसकी खास बात यह है कि पैरा कमांडोज करीब 3 हजार से भी उपर से छलांग लगाने में माहिर है।1971 और 1991 कारगिल युद्ध के दौरान इसी पैरा कमांडोज ने पाकिस्तान को धूल चटा दी थी।भारतीय आर्मी का यह अहम हिस्सा होते हैं।

3. घातक फोर्स

यह भारतीय सेना की स्पेशल कंपनी है जो ‘मैन टू मैन असॉल्ट’ के वक्त बटालियन के आगे चलती है। ये दुश्मन के तोपखानों पर हमला करने में माहिर होते हैं। इन्हें दुश्मन के साथ आमने-सामने की लड़ाई लड़नी होती है। घातक फोर्स के जवान इतने ताकतवर होते हैं कि एक-एक जवान 20 लोगों पर भारी पड़ सकता है।

4. गरुड़ कमांडो फोर्स

यह भारतीय वायु सेना की टुकड़ी में रहते है जिसमें करीब 2 हजार कमांडो होते हैं। अत्याधुनिक हथियारों से लैस इस फोर्स को हवाई क्षेत्र में हमला करने, हवाई आक्रमण करने, स्पेशल कॉम्बैट और रेस्क्यू ऑपरेशन्स के लिए खास तौर पर तैयार किया जाता है।

5. नेशनल सिक्योरिटी गार्ड (एनएसजी)

नेशनल सिक्योरिटी गार्ड यानी एनएसजी ये भारत की सबसे प्रमुख सिक्‍योरिटी फोर्स है। इसका इस्तेमाल टेररिस्‍ट एक्‍टीविटी को रोकने और राज्‍य में हो रहे इंटरल डिस्‍टरबेंस को संभालने के लिए किया जाता है। इसे आम भाषा में एनएसजी, ब्लैक कैट या कमांडो के नाम से जाना जाता है। 1984 के ऑपरेशन ब्‍लू स्‍टार के बाद इसकी स्‍थापना की गई थी।