जोधपुर के शहीद जवान के गांव में शोक, पिता बोले- मैं फिर से सेना में जाकर अपने बेटे की शहादत का बदला ले सकता हूं

जोधपुर ( 22 नवंबर ): जम्मू एवं कश्मीर में पाकिस्तानी गोलीबारी में तीन जवान शहीद हो गए। इनमें से एक जवान का शव सरकटी अवस्था में मिला। माछिल सेक्टर में पाकिस्तान के हमले में जोधपुर के शेरगढ़ के रहने वाले प्रभु सिंह भी शहीद हो गए। प्रभु 4 साल पहले सेना में भर्ती हुए थे। 2 साल पहले ही उनकी शादी हुई थी। 

शहीद प्रभु सिंह की 10 महीने की छोटी बच्ची है। वो परिवार में अकेले कमाने वाले थे। घरवालों के मुताबिक दीवाली से 10 दिन पहले ही वो एक महीने की छुट्टी पर घर आए थे। शहीद प्रभुसिंह के पिता 18 साल पहले सेना से रिटायर हुए थे। बेटे की शहादत ने पिता को इतना तोड़ दिया है कि वो खुद पाकिस्तान से बदला लेने की बात कर रहे हैं।

जोधपुर के शेरगढ़ में लगभग हर घर में कोई न कोई सेना में रहा है। शहीद प्रभु सिंह शेरगढ़ के खिरजा खास गांव के रहने वाले थे, उनकी शहादत पर पूरे गांव में शोक और मातम का माहौल बन गया है।