पाकिस्तान में भारतीय जवान से हैवानियत, मांगता था भगवान से मौत

मुंबई (24 मार्च): गलती से लाइन ऑफ कंट्रोल पार करने वाले भारतीय जवान चंदू बाबूलाल चव्हाण को पाकिस्तान ने 21 जनवरी को तकरीबन 4 महीने बाद रिहा तो कर दिया। लेकिन दौरान पाकिस्तान ने उसपर हर तरह का जुल्म ढाहा। स्वदेश लौटेने के तकरीबन दो महीने बाद भारतीय सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण ने पाकिस्तान के उस जुल्म को बयां किया है। चंदू बाबूलाल चव्हाण ने खुलासा किया है कि पाकिस्तानियों की यातना से वो इतना परेशान हो गया था कि अक्सर हिरासत के दौरान वह अपनी मौत के लिए भगवान से प्रार्थना किया करता था।


आपको बता दें कि 22 के सैनिक चंदू बाबूलाल चव्हाण पिछले साल के 29 सितंबर को सीमा पार पाकिस्तान चला गया था। गौरतलब है कि इसी दिन भारत ने पाकिस्तान पर लक्षित हमला (सर्जिकल स्ट्राइक) किया था। चव्हाण जम्मू-कश्मीर के पुंछ जिले में नियंत्रण रेखा के पास तैनात थे. सीमा पार करने और पाकिस्तानी सैनिकों द्वारा पकड़े जाने के बाद की स्थिति के बारे में चव्हाण ने कहा कि उन्होंने मेरी जांच की, मेरे कपड़ों की तलाशी ली। मुझ पर काला कपड़ा डालकर एक वाहन में लेकर गये।