नहीं आयेगी नेपाल जैसी तबाही, भूकंप फोरकास्ट करने वाला उपकरण तैयार

नई दिल्ली (21 जनवरी): अलीगढ़ यनिवर्सिटी के दो वैज्ञानिकों ने एक ऐसा उपकरण बनया है जो भूकंप आने की भविष्यवाणी कर सकता है। भूकंप की भविष्यवाणी करने वाला यह दुनिया का पहला उपकरण होगा। भूकंप की भविष्यवाणी करने वाले इस उपकरण का दोनों वैज्ञानिक पेटेंट भी करा चुके हैं। ये दोनों वैज्ञानिक हैं इलेक्ट्रिकल विभाग के वैज्ञानिक प्रो. एमएस जमील असगर और इलेक्ट्रॉनिक्स विभाग के वैज्ञानिक डॉ. सैयद जावेद आरिफ।

प्रो. एमएस जमील असगर ने बताया कि इस उपकरण में इलेक्ट्रॉनिक ऑसीलेटर लगा है, जो हाई फ्रीक्वेंसी सिगनल छोड़ता है, जिससे रोटेटिंग मैग्नेटिक फील्ड उत्सर्जित होती है।  जो वाइब्रेशन को रीड करके उसका रिकॉर्डिंग कंप्यूटर प्रोग्रामिंग को भेजता है। इसमें लगा वाइब्रेशन सेंसर जनवरों की तरह न्यूनतम फ्रीक्वेंसी को रीड करने में सक्षम है। बिजली या बैटरी से उपकरण को चलाया जा सकता है। इसे जमीन पर रखकर मापा जाता है। भूकंप आने से पहले काफी पहले उठने वाली लो फ्रीक्वेंसी की तरंगों को यह उपकरण रीड करके संकेत देगा। और समय रहते भूकंप से बचाव के उपाय संभव होंगे।