अब सफर के दौरान ट्रेन में महज 100 रुपये में लिजिए पैर और सिर के मसाज का आनंद

Image Credit: Google

कुंदन सिंह, न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (8 जून): ट्रेन में सफर करने वालों के लिए अच्छी खबर है। अब आप सफर के दौरान ट्रेन में अपने पैर और सिर का मसाज करा सकते हैं। दरअसल रेलवे ने अपने यात्रियों के लिए चलती ट्रेन में सिर की चम्पी एवं पैर की तेल मालिश की सुविधा शुरू करने का ऐलान किया है। फिलहाल ये सुविधा पश्चिम रेलवे के रतलाम मंडल ने इंदौर से शुरू होने वाली 39 ट्रेनों में मिलेगी।इनमें मालवा एक्सप्रेस, नयी दिल्ली इंटरसिटी एक्सप्रेस, अहिल्यानगरी एक्सप्रेस, अवंतिका एक्सप्रेस, क्षिप्रा एक्सप्रेस, नर्मदा एक्सप्रेस, पेंचवैली एक्सप्रेस, उज्जयिनी एक्सप्रेस अन्य शामिल हैं। बता दें कि भारतीय रेलवे अपनी नियमित ट्रेनों में यात्रियों के लिए पहली बार इस तरह की सुविधा शुरू करने का निर्णय लिया है। अभी तक विशेष पर्यटक ट्रेन, महाराजा एक्सप्रेस जैसी ट्रेनों में स्पा, मसाज की सुविधाएं दी जाती हैं।

रेलवे के अनुसार, सिर एवं पैर की मालिश के लिए गोल्ड स्कीम में 100 रुपए, डायमंड स्कीम में 200 सौ रुपए एवं प्लेटिनम स्कीम में 300 सौ रुपए की दरें निर्धारित की गयी है। गोल्ड स्कीम में मालिश करने वाला 15 से 20 मिनट तक जैतून या कम चिपचिपे तेल से मालिश करेगा जबकि डायमंड एवं प्लेटिनम स्कीमों में तेल के साथ क्रीम एवं वाइप्स के साथ मालिश की जाएगी। ट्रेन के हर कोच में स्टीकर द्वारा मसाजर के नंबर प्रदर्शित किए जाएंगे।   रेलवे के मुताबिक 'भारतीय रेल के इतिहास में पहली बार यात्रियों की सुविधा के लिए चलती ट्रेन में मसाज सर्विस उपलब्ध कराई जाएगी। इससे न केवल रेवेन्यू बढ़ेगा बल्कि यात्रिययों की संख्या भी बढ़ेगी। रेलवे को इससे 20 लाख रुपये का अतिरिक्त सालाना रेवेन्यू (राजस्व) मिलेगा और अनुमान है कि 20,000 सर्विस प्रोवाइडर्स को टिकट बेचने से 90 लाख रुपये की कीमत के टिकटों की अतिरिक्त बिक्री भी होगी।'

रेलवे बोर्ड के मीडिया ऐंड कम्युनिकेशंस के निदेशक, राजेश बाजपेई ने कहा, 'ऐसा पहली बार है जबकि इस तरह का कोई कॉन्ट्रैक्ट साइन किया गया है।' बात करें कीमत की तो हर बार फुट मसाज और हेड मसाज के लिए 100 रुपये देने होंगे। यह स्कीम रेलवे की उस स्कीम का हिस्सा है जिसमें सभी जोन और डिविजनों से नए और इनोवेटिव आइडिया देने को कहा गया था ताकि किराए के अतिरिक्त दूसरी चीजों से रेवेन्यू जेनरेट हो सके।