सोशल मीडिया के बेहतर इस्तेमाल से सुधरेगी रेलवे की परफॉर्मेंस

नई दिल्ली (7 अगस्त): अगर भारतीय रेलवे की योजना साकार होती है, तो रेल पैसेंजर्स के पास जल्द ही रेलमंत्री सुरेश प्रभु से संपर्क करने के लिए और ज्यादा सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स उपलब्ध होंगे। इनके जरिए वे राजधानी स्थित रेल भवन के शीर्ष अधिकारियों से भी सीधे संपर्क कर सकेंगे। 

- रिपोर्ट के मुताबिक, करीब 1,000 ऐसे ट्वीट्स जिनपर कार्रवाई की जा सके, और फेसबुक पर हर दिन 200 शिकायतें मिलने के बाद भारतीय रेल सोशल मीडिया के नए फीचर्स आजमाने जा रही है। जैसे गूगल प्लस और इंस्टाग्राम। - इनके जरिए पैसेंजर्स सीनियर रेल मैनेजमेंट से कनेक्ट हो सकते हैं। - इनके अलावा रेलवे इन-हाउस एनालिटिक्स टूल भी बना रही है, जिनसे शिकायतों के तुरंत निपटारे की स्क्रूटनी की जा सके।  - रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने कहा, "हमने सोशल मीडिया शिकायतों के लिए रिस्पॉन्स टाइम 30 मिनट रखा है।" - अगला कदम पैसेंजर्स के फीडबैक को रेलवे की परफॉर्मेस के आकलन के लिए शामिल करना है। - जनशिकायतों के इनचार्ज एक्जीक्यूटिव डायरेक्टर रविनेश कुमार ने बताया कि दो महीनों में नए बैक-एंड सॉफ्टवेयर को ऑपरेशन में लाया जाएगा।