रेलवे का दिवाली तोहफा, इन ट्रोनों में कम होगा किराया

Image credit: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (1 नबंवर): दिवाली के मौके पर रेलवे ने आम आदमी का बड़ा तोहफा दिया है। रेलवे ने ऐसी ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर पूरी तरह खत्‍म कर दिया है, जिनमें 50 फीसदी से कम सीटों की बिक्री होती है। रेलमंत्री पीयूष गोयल के मुताबिक रेलवे उन रेलगाड़ियों से फ्लेक्सी किराया प्रणाली को पूरी तरह से हटाएगा, जिनमें ऐसे हालात हैं। लेकिन, सभी ट्रेनों के लिए फ्लेक्सी फेयर की अधिकतम सीमा को टिकट के आधार मूल्य के 1.5 गुणा के बजाय 1.4 गुणा होगा। रेल मंत्री ने कहा कम सीट बुकिंग वाली 15 रेलगाड़ियों में फ्लेक्सी किराया प्रणाली हटाई गई है। वहीं, 32 रेलगाड़ियों में सुस्त यात्रा मौसम के दौरान यह प्रणाली लागू नहीं होगी। लेकिन, बाकी 101 रेलगाड़ियों में योजना लागू रहेगी।

रेल मंत्री ने ट्विटर पर इसकी घोषणा करते हुए कहा कि यह रेलवे और यात्रियों दोनों के लिए फायदेमंद है। उन्होंने कहा कि इससे यात्रियों पर किराये का बोझ कम होगा तो दूसरी तरफ डीमांड बढ़ने से रेलवे को भी फायदा होगा।

कम सीटें भरने के कारण जिन रेलगाड़ियों से फ्लेक्सी किराया योजना को हटाया जाएगा उनमें कालका-नई दिल्ली शताब्दी, हावड़ा-पुरी राजधानी, चेन्नै-मदुरै दुरंतो शामिल है। जिन ट्रेनों में ऑफ सीजन के दौरान फ्लेक्सी किराया लागू नहीं होगा, उनमें- अमृतसर शताब्दी, इंदौर दुरंतो, जयपुर दुरंतो, बिलासपुर राजधानी, काठगोदाम-आनंदविहार शताब्दी, रांची राजधानी सहित अन्य शामिल हैं। हमसफर ट्रेनों में 50 फीसदी सीटों पर किराया सामान्य रहता है। रेलवे बोर्ड के सदस्य (ट्रैफिक) मोहम्मद जमशेद ने संकेत देते हुए कहा कि शेष बची 50 फीसदी बर्थ की बुकिंग के साथ 10-10 फीसदी किराया बढ़ता जाएगा।आपको बता दें कि राजधानी, शताब्दी और दुरंतों जैसी प्रीमियम ट्रेनों में पूर्व रेलमंत्री सुरेश प्रभु के कार्यकाल में फ्लेक्सी फेयर सिस्टम लागू किया गया था। इनमें 44 राजधानी, 52 दुरंतो और 46 शताब्दी गाड़ियां शामिल थी। इस सिस्टम के तहत एक तय सीमा में सीटें बुक होने के बाद किराये में 10 फीसदी की बढ़ोतरी होती है, जो अधिकतम 50 फीसदी तक होती है।