भारतीय रेल: चलती ट्रेन से अलग हो गया इंजन

नई दिल्ली (28 फरवरी): रेल मंत्री सुरेश प्रभु ने बजट के दौरान संरक्षा और सुरक्षा पर लम्बा-चौड़ा भाषण दिया लेकिन भारतीय रेल के ऱखरखाव में भारी खामियां हैं। इसका उदाहरण दिखायी दिया मऊ नज़दीक स्टेशन के पास।  मंडुवाडीह से गोरखपुर जाने वाली इंटरसिटी एक्सप्रेस रविवार की सुबह मऊ में दो हिस्सों में बंट गई।

घटना मऊ जंक्शन से एक किलोमीटर दूर किन्‍नूपुर आउटर सिग्‍नल के पास हुई। सुबह करीब साढ़े सात बजे ट्रेन से इंजन अलग हो गया। घटना के बाद काफी देर तक इंजन रहित बोगियां किन्‍नूपुर आउटर पर ही खड़ी रहीं। मऊ जंक्शन से गए इंजीनियरिंग विभाग के विशेषज्ञों की टीम ने इंजन को ट्रेन से जोड़ कर गोरखपुर के लिए रवाना किया। कुछ देर बाद ही इंदारा व क्रीडिहरापुर स्‍टेशन के बीच में इंजन फेल हो गया। इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारी पहुंचे लेकिन खराबी ठीक नहीं होने पर नया इंजन लगाते हुए ट्रेन को गोरखपुर के लिए रवाना किया। पूर्वोत्तर रेलवे के डीआरएम एके कश्‍यप ने बताया कि पूरे प्रकरण की जांच कराई जा रही है।