ट्रेनों की लेटलतीफी में सुधार के लिए अधिकारियों ने दौड़ाई 'जुगाड़ एक्सप्रेस'

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (12 जुलाई): रेल मंत्री पीयूष गोयल अगर डाल-डाल हैं तो रेलवे के अधिकारी पात-पात हैं। ऐसा हम इसलिए कह रहे हैं क्योंकि देश की आवाम हाई स्पीड ट्रेनों का सपना देख रही है तो रेलवे ने उस सपने को सच करने के बजाए उल्टे ट्रेनों का रनिंग टाइम बढ़ा दिया है। 


अफसरों ने अपनी पंक्चुअलिटी का ग्राफ बढ़ाने के साथ ही लेटलतीफी पर कार्रवाई से बचने का रास्ता भी निकाल लिया है। बता दें कि ट्रेनों की लेटलतीफी को लेकर उत्तर, पूर्वोत्तर और उत्तर मध्य रेलवे का बुरा हाल है। यात्रियों को हो रही दिक्कतों को लेकर मंडल से मुख्यालय व रेलवे बोर्ड तक में किरकिरी हो रही है। बदहाल हालातों से नाराज होकर रेल मंत्री पीयूष गोयल ने अफसरों को चेतावनी तक दे दी कि वह उन पर विभागीय कार्रवाई करेंगे। इसके बाद कई मंडलों ने तो ट्रेनों का परिचालन सुधारने के लिए दूसरे तरीके ही अपनाए।

अफसरों ने ट्रेनों की पंक्चुअलिटी का ग्राफ ऊपर करने के लिए लेट होने वाली प्रमुख ट्रेनों के टाइम टेबल में ही बदलाव कर दिया है। एनआर के अफसरों ने 93 ट्रेनों के गंतव्य पर पहुंचने के समय में 20 मिनट से लेकर घंटे भर तक का इजाफा कर दिया है। इससे अब वह ट्रेनें उक्त अवधि तक लेट होने के बावजूद राइट टाइम ही रहेंगी।