कैंसर सेल्स को मारने वाला नया प्रोटीन विकसित, रिसर्चर्स में भारतीय शामिल

वाशिंगटन (1 जून) : भारतीय मूल के एक वैज्ञानिक समेत रिसर्चर्स की एक टीम ने एक नया प्रोटीन डिजाइन किया है जो कैंसर को बढ़ावा देने वाले सेल्स (कोशिकाओं) को प्रभावी ढंग से नष्ट कर सकता है। कैंसर के अलावा ये प्रोटीन अन्य कई बीमारियों के निदान में भी मददगार साबित हो सकता है।

प्रोएजिओ का विकास एक ह्यूमन प्रोटीन से ही किया गया है। ये सेल सरफेस रिसेप्टर इंटेग्रिन वी3 को टारगेट करता है। अभी तक अन्य वैज्ञानिकों ने इस दिशा में काम नहीं किया था।

अमेरिका की जिओर्जिया स्टेट यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स ने पाया कि प्रोएजियो से एपोपटोसिस प्रकिया में तेज़ी आती है। इसे दूसरे शब्दों में सेल्स की नियंत्रित मौत कहा जा सकता है। उन सेल्स की मौत जो इंटेग्रिन वी3 को निरूपित करते हैं। इस प्रोजेक्ट पर काम करने वाली टीम में जिओर्जिया स्टेट के भारतीय मूल के वैज्ञानिक रवि तुरागा भी शामिल हैं। रवि ने गहन सेल और मोलिक्यूलर टेस्टिंग को अंजाम दिया जिससे कि ये पुष्टि हुई कि प्रोएजियो इंटिग्रिन वी 3 के साथ अच्छी तरह इंटरएक्ट करता है।  

ये पाया गया है कि प्रोएजियो सेल्स की नियंत्रित मौत में दूसरे एजेंट्स की तुलना में कहीं ज़्यादा असरदार रहा।