भारत की इस मिसाइल से कांपता है चीन और पाक

नई दिल्‍ली (28 जनवरी): लंबी दूरी तक मार करने वाले मिसाइल भारत के पास भी है। अग्नि 5 से हिंदुस्तान ना सिर्फ लंबी दूरी तक मार करने में सक्षम है बल्कि अग्नि 5 जैसे मिसाइलों से भारत को एक नई शक्ति मिली है। अग्नि 5 की बनावट से लेकर इसकी ताकत तक की हर तरफ चर्चा होती है।

अग्नि-5 चीन सहित आधे यूरोप तक ये एटम बम गिरा सकता है। यानि इसके दायरे में पाकिस्तान बीजिंग, शंघाई, तेहरान, मनीला, बैंकाक और जकार्ता आ सकते हैं। अग्नि-5 को एमआईआरवी यनी (मल्टिपल इंडिपेंडेंटली टारगेटेबल रीएंट्री वीइकल) मिसाइल भी कहते हैं क्योंकि अग्नि-5 कई दिशाओं में एक साथ निशाना लगा कर छोड़ी जाने वाली मिसाइल है। अग्नि-5 का रॉकेट सिर के हिस्से में दो मीटर चौड़ा है जिसमें 3 से 5 मिसाइल वॉरहेड यानी विस्फोटक शीर्ष डाले जा सकते हैं।

कुछ वक्त पहले जब भारत ने इस मिसाइल का परीक्षण किया तो अमेरिका, रूस, चीन, फ्रांस, इजराइल और ब्रिटेन के बाद इस तकनीक को हासिल करने वाला भारत सातवां देश बन गया था।

अग्नि-5 यह मिसाइल 20 मिनट में 5,500 किलोमीटर की दूर तय कर सकती है। इस पर करीब 50 करोड़ रुपये की लागत आई है। इस मिसाइल का वजन 50 टन है जबकि इसकी लंबाई 17.5 मीटर है। ये एक टन का परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम है।

अग्नि-5 में RING LASER GYROSCOPE यानि RLG तकनीक का इस्तेमाल किया गया है। भारत में ही बनी इस तकनीक की खासियत ये है कि ये निशाना बेहद सटीक लगाती है।

कैसे वार करती है अग्नि-5? अग्नि-5 का खास इंजन तीन स्तरों पर काम करता है। दागे जाने के बाद दो स्तरों पर लगे इंजन मिसाइल को अंतरिक्ष तक ले जाते हैं। अंतरिक्ष के ज़ीरो ग्रेविटी हालात में मिसाइल पृथ्वी की कक्षा में घूमते हुए आगे का सफर तय करती है और दूसरे महाद्वीप पर मौजूद टारगेट के करीब पहुंचती हैं। इसके बाद तीसरे स्तर का इंजन दहक उठता है और अग्नि-5 मिसाइल धरती की तरफ लौटती है।

दुश्मन को खबर लगने से पहले ही अग्नि-5 अपने टारगेट को तबाह कर सकती है। जब से हिंदुस्तान ने इसका परीक्षण किया है, तब से चीन और पाकिस्तान की नींद उड़ी है। अगर मिसाइल की तुलना में पाकिस्तान की बात करें तो वो कहीं भी नहीं खड़ा होता है। पाकिस्तान के पास लंबी दूरी तक मारने करने वाली कोई भी मिसाइल नहीं  है। अलबत्ता पिछले साल पाकस्तान ने शाहीन-3 का टेस्ट किया था, जिसकी मारक क्षमता सिर्फ 2750 किमी ही है यानि अग्नि-5 के मुकाबले आधा है।