भारत में खतरे में 7 लाख नौकरियां

नई दिल्ली(8 सितंबर): भारत में 7 लाख लोगों की नौकरी पर खतरे के बादल मंडरा रहे हैं। इन लोगों पर यह खतरा आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस और ऑटोमेशन की वजह से मंडरा रहा है।

-  यूएस की रिसर्च फर्म HfS की तरफ से जारी रिपोर्ट में इस खतरे को लेकर आगाह किया गया है।

 - रिपोर्ट के मुताबिक भारतीय आईटी इंडस्ट्री ऑटोमेशन और आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस को बढ़ावा देने में जुटी हुई है। इसकी वजह से कम कुशल श्रमिकों को अपनी नौकरी से हाथ धोना पड़ सकता है।

-  रिपोर्ट का कहना है कि 2016 में 24 लाख कम कुशल श्रमिक हैं। 2022 तक इनकी संख्या 17 लाख पर पहुंच सकती है। 

- रिपोर्ट में कहा गया है कि इसका सबसे ज्यादा असर घरेलू आईटी और बीपीओ इंडस्ट्री पर पड़ेगा। भारत में ही नहीं, बल्क‍ि वैश्व‍िक स्तर पर भी इन नौकरियों में कमी आने की आशंका है। वैश्व‍िक स्तर पर भी इन कम श्रमिकों की नौकरियों में 31 फीसदी की कमी आएगी।