Blog single photo

भारत बना दुनिया का चौथा बड़ा हथियार विक्रेता

मौजूदा वक्त में अगर हथियार खरीदने वाले दुनिया के तमाम देशों के बीच अगर भारत की एक तस्वीर देखी जाए तो भारत सबसे बड़े हथियार खरीददार के रुप में उभर कर सामने आया है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तेजी से उभरता हुआ भारत वर्ष आज दुनिया भर के तमाम ताकतबर देशों से हथियार खरीदता है। जिनमें रुस, अमेरिका, फ्रांस और इजरायल से भारत खास तौर पर ज्यादा मात्रा में हथियारों का आयात करता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2013 से लेकर 2017 के बीच में इंडिया ने विश्व के कुल रक्षा सौदे का 12 फीसदी अकेले ही खरीदा है।

Image source: Google

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (11 दिसंबर):मौजूदा वक्त में अगर हथियार खरीदने वाले दुनिया के तमाम देशों के बीच अगर भारत की एक तस्वीर देखी जाए तो भारत सबसे बड़े हथियार खरीददार के रुप में उभर कर सामने आया है। अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर तेजी से उभरता हुआ भारत वर्ष आज दुनिया भर के तमाम ताकतबर देशों से हथियार खरीदता है। जिनमें रुस, अमेरिका, फ्रांस और इजरायल से भारत खास तौर पर ज्यादा मात्रा में हथियारों का आयात करता है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक साल 2013 से लेकर 2017 के बीच में इंडिया ने विश्व के कुल रक्षा सौदे का 12 फीसदी अकेले ही खरीदा है। लेकिन अब आपको जानकर खुशी होगी कि तस्वीर बदलने जा रही है। स्टॉकहोम इंटरनैशनल पीस रिसर्च इंस्टिट्यूट की हालिया रिपोर्ट के मुताबिक हथियारों की बिक्री में 2016-17 में भारत ने 5 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है। अब यहां पर गौर करने वाली बात है कि हथियारों की बिक्री में भारत की बढ़ोतरी का यह आंकड़ा अमेरिका से भी तकरीबन 2 फीसदी ज्यादा है। और सबसे ज्यादा अगर चौकाने वाली बात है तो वो ये है कि पाकिस्तान को हमशा गलत कामों के लिए समर्थन देने वाले चीन का इस सूची में नाम नहीं है।

अंतर्राष्ट्रीय पटल पर भी भारत ने दी चुनौती

बता दें कि जिन देशों का भारत एक खास विक्रेता है उनके साथ भारत के रिश्ते न सिर्फ हथियारों तक सीमित हैं बल्कि कूटनीति के आधार पर भी बड़े पैमाने पर साझेदारी कर रहा है। इतना ही नहीं आपको बता दें कि भूगोल राजनैतिक और रणनीतिक लिहाज से भी ये सभी देश भारतीय विदेश नीति का एक अहम और खास हिस्सा बन रहे हैं। अतर्राष्ट्रीय स्तर पर भारत बेहद ही तेजी से उभर रहा है एक दौर वो था जब भारत को दुनियां की ये पावरपुल कंट्री किसी भी खेत की मूली नहीं समझते हैं। आज भारत उन्हीं देशों के साथ न सिर्फ बराबरी पर खड़े होने का माद्दा दिखा रहा है बल्कि कई मायनों में चुनौती भी दे रहा है।

भारत आज नीचे की नहीं बराबरी के दर्जे में गिना जाता है और इसका पूरा श्रेय भारत के पीएम नरेंद्र मोदी को जाता है इस बात से भी इंकार नहीं किया जा सकता है। भारत ने बीते चार साल में अपनी ताकता का एहसास दुनिया के ताकतबर देशों को करवाया है इसका अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि चाहे, अमेरिका हो, रुस हो, या फिर जापान सभी देशों के बीच में भारत की मौजुदगी देखी जा सकती है और कुटनीतिक स्तर भारत का बोलबाल लगातार बढ़ा है। यानी कि बदलती सूरत भारत की वैश्विक ताकत को अलग अर्थ में पेश कर रही है। हथियारों की बिक्री में हुई यह वृद्धि वैश्विक हथियार बाजार में भारत के दखल और विदेश नीति को दिखा रही है।

Tags :

NEXT STORY
Top