Blog single photo

IMF के बाद वर्ल्ड बैंक ने भी घटाया भारत का GDP अनुमान

आईएमएफ के बाद अब विश्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के विकास दर को घटा दिया है। विश्व बैंक ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए ग्रोथ रेट का अनुमान घटाकर 6 फीसदी कर दिया है। पिछले वित्त वर्ष (2018-19) में भारत की विकास दर 6.9 फीसदी रही थी

न्यूज 24 ब्यूरो, नई दिल्ली (13 अक्टूबर): आईएमएफ  के बाद अब विश्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारत के विकास दर को घटा दिया है। विश्व बैंक ने वित्त वर्ष 2019-20 के लिए ग्रोथ रेट का अनुमान घटाकर 6 फीसदी कर दिया है। पिछले वित्त वर्ष (2018-19) में भारत की विकास दर 6.9 फीसदी रही थी। रिपोर्ट में कहा गया है कि अगले वित्त वर्ष से भारत की अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ेगी और 2021 में यह 6.9 फीसदी तक पहुंच सकती है। साथ ही विश्व बैंक ने अनुमान तो यह भी लगाया है कि 2022 में भारत की विकास की रफ्तार 7.2 फीसदी तक पहुंच जाएगी।

विश्व बैंक ने कहा है कि लगातार दूसरे साल भारत की आर्थिक विकास दर की रफ्तार गिरी है। 2017-18 में यह 7.2 फीसदी थी, जो 2018-19 में घटकर 6.8 फीसदी हो गई। हालांकि मैन्युफैक्चरिंग और कंस्ट्रक्शन एक्टिविटीज बढ़ने से इंडस्ट्रियल आउटपुट ग्रोथ बढ़कर 6.9 फीसदी हो गई जबकि एग्रीकल्चर और सर्विस सेक्टर में ग्रोथ 2.9 फीसदी और 7.5 फीसदी तक रही।

आपको बता दें कि इसी हफ्ते IMF ने चालू वित्त वर्ष के लिए भारतीय अर्थव्यवस्था की विकास दर का अनुमान घटा दिया था। IMF ने अब विकास दर का अनुमान 0.30 फीसदी घटाकर 7 फीसदी कर दिया है। उससे पहले रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने भारत का ग्रोथ रेट का अनुमान 6.8 फीसदी से घटाकर 6 .1 फीसदी कर दिया था। जानकारों के मुताबिक, ऐसा घरेलू मांगों में आई कमी की वजह से किया गया है।

इससे पहले क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने भारत के जीडीपी ग्रोथ अनुमान को एक बार फिर घटा दिया था। मूडीज के अनुमान के मुताबिक वित्त वर्ष 2019-20 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ 5.8 फीसदी रह सकती है। इससे पहले पहले मूडीज का जीडीपी ग्रोथ अनुमान 6.2 फीसदी था। इस लिहाज से मूडीज ने जीडीपी ग्रोथ अनुमान में 0.4 फीसदी की कटौती की है। इसके साथ ही मूडीज ने भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था को लेकर गंभीर चेतावनी भी दी है। मूडीज ने कहा है कि अगर अर्थव्यवस्था में सुस्ती जारी रहती है तो सरकार की राजकोषीय घाटा कम करने की कोशिश को झटका लगेगा। इसके साथ ही कर्ज का बोझ भी बढ़ता जाएगा।

(Image Credit: Google)

Tags :

NEXT STORY
Top