इंडियन कोस्टगार्ड ने बचाई दो पाक नौसैनिकों की जान

नई दिल्ली (12 अप्रैल): भले ही पाकिस्तान ने कुलभूषण यादव को फांसी की सजा देने का ऐलान कर दिया है, लेकिन भारतीय कोस्टगार्ड ने दो पाक नौसैनिकों की जान बचाकर एक मिशाल पेश की है।


गुजरात के ओखा तट के करीब पाकिस्तानी मैरीटाइम सिक्युरिटी एजेंसी की एक बोट भारत-पाकिस्तान मैरीटाइम बाउंड्री लाइन यानि समुद्री-सीमा के करीब पलट गई थी। इस बोट की लोकेशन गुजरात के ओखा बंदरगाह से करीब 58 नॉटिकल मील थी, क्योंकि बोट भारतीय सीमा में थी इसलिए पाकिस्तान ने इंडियन कोस्टगार्ड से मदद मांगी। कोस्टगार्ड ने तुरंत वहां से गुजर रहे इंडियन कोस्टगार्ड के जहाज, ‘ आईसीजी अंकित’ को उसी दिशा में रवाना कर दिया जहां पाकिस्तैनी बोट डूबी थी।


अगले दिन सुबह यानि 10 अप्रैल (सोमवार) को कोस्टगार्ड ने अपने दो और जहाज ‘सम्राट’ और ‘अरिंजय’ को भी मदद के लिए लगाया। एक डोरनियर विमान को भी खोजबीन को लिए लगाया गया। उसी दिन एक भारतीय मछुआरों की बोट ने समंदर में डूब रहे दो पाकिस्तानी नौसैनिकों को बचा लिया। वे दोनों बेहोश थे और हालत काफी खराब थी। मछुआरों ने पाकिस्तानी नौसैनिकों को कोस्टगार्ड के हवाले कर दिया। कोस्टगार्ड के जहाज पर मौजूद डॉक्टर्स ने बेहोश पाकिस्तानी मेरिन्स को चिकित्सा मुहैया कराई और होश में लाया।


इसके बाद कोस्टगार्ड ने बाकी चार पाकिस्तानी नौसैनिकों के शवों को भी समंदर से ढूंढ निकाला। भारतीय कोस्टगार्ड ने जिंदा बचाए गए पाकिस्तानी नौसैनिकों और उनके साथियों के शवों को पाकिस्तान की मेरिटाइम सिक्योरिटी एजेंसी को सौंप दिया।