भारत के इस शहर में नहीं चलते हैं रुपए, ऐसे चलती है जिंदगी

नई दिल्ली(19 नवंबर):  दुनिया में धर्म, पॉलिटिक्स और पैसे का खास महत्व है। इसके बिना किसी भी देश या राज्य का चलना मुश्किल हो सकता है। लेकिन आपको बता दें कि भारत में एक ऐसी ही जगह है, जहां पर न तो करेंसी चलती है और न ही कोई वहां पर कोई पॉलिटिक्स है। इस शहर का नाम ऑरोविले है, जो चेन्नई से 150 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है।

चेन्नई से कुछ दूरी पर बसे 'ऑरोविले' की खोज सन् 1968 में UNESCO ने की थी। करीब 24,00 आबादी वाले इस शहर में कानून से लेकर पोलिटिक्स तक का नामोनिशान नहीं है। इतना ही नहीं शांति, प्यार और मिलकर रहने वाले 'ऑरोविले' वासियों के पास पैसे तक नहीं हैं। यहां पर लगभग 50 देशों के विभिन्न धर्मों के लोग बिना किसी विवाद के एक साथ रहते हैं और आपस में सामानों का आदान-प्रदान करके अपना जीवन यापन करते हैं।

यहां के मकान स्थायी नहीं होते हैं। समय-समय पर इनमें बदलाव किया जाता है, ताकि प्राकृतिक लाभ लोगों को सही से मिलता रहे। इस सुंदर शहर का डिजाइन फ्रांस के रहने वाली मीर अल्फासा ने किया था। वहीं, खेती करने के लिए 160 हेक्टेयर में 15 फार्म बनाए गए हैं, जिसमें 50 ग्रामीण और करीब 300 पड़ोस के लोग काम करते हैं। 'ऑरोविले' में दूध और फल का उत्पादन पर्याप्त मात्रा में होता है।