सऊदी अरब की मर्चुरी में पड़े हैं कई भारतीयों के शव, देश लौटने की राह मुश्किल

नई दिल्ली(12 दिसंबर): तेलंगाना व आंध्र प्रदेश के रहने वाले 150 लोगों के शव पिछले एक साल से सऊदी अरब में मुर्दाघर में पड़े हैं। मृतकों के परिजन इन शवों को अंतिम संस्कार के लिए विदेश से भारत नहीं ला पा रहे हैं।

- भारतीय दूतावास भी इन शवों को वापस भारत भिजवाने में असफल साबित हुआ है। एक अंग्रेजी अखबार टाइम्स की रिपोर्ट के मुताबिक, रियाद स्थित भारतीय दूतावास ने इन शवों को भारत भिजवाने की कोशिश की है, लेकिन कुछ भी सफलता हाथ नहीं लगी है।

- विदेश मंत्रालय के खत के बाद भी इन शवों को भारत लाने की दिशा में कदम आगे नहीं बढ़ पाए हैं।

- वहीं इनको नौकरी पर रखने वालों ने ई-मेल और फोन पर जवाब देने से मना कर दिया है।

- रिपोर्ट के मुताबिक, इन लोगों की मौत की वजह बीमारी, दुर्घटना, हत्या व आत्महत्या है।

-बता दें कि आंध्र प्रदेश के हैदराबाद, करीमनगर, वारंगल, महबूबनगर, निजामाबाद व तेलंगाना से हजारों लोग खाड़ी देशों में रोजगार के लिए जाते हैं।

-तेलगु कम्युनिटी के आंकड़ों के मुताबिक, आंध्र व तमिलनाडु से करीब 10 लाख लोग सऊदी अरब में नौकरी कर रहे हैं।

-कम्प्युटर प्रोग्रामर मोहम्मद ताहिर का कहना है कि मृतकों के कॉफिन्स लालफीताशाही की भेट चढ़ गए हैं।

-मोहम्मद दम्मान में काम कर रहे हैं और मुर्शिदाबाद के रहने वाले हैं।

-मई में ही एक नियोक्ता ने एक महिला को उत्पीड़त कर मार डाला था।

-इसके बाद भारतीय दूतावास के प्रयास के बाद महिला के शव को 20 मई को हैदराबाद भारत भेजा गया था।

-कई कामगारों के शव आठ-आठ महीनों से मुर्दाघर में पड़े हैं।