कालेधन वालों ने बदला अपना ठिकाना, स्विस बैंक नहीं अब यहां जमा करा रहे हैं पैसा


नई दिल्ली (14 सितंबर):
कालेधन के खिलाफ भारत सरकार की ओर से उठा जा रहे कदम के बाद स्विस बैंकों में जमा भारतीयों का पैसा आधा हो गया है। जानकारी के मुताबिक भारत के कालेधन के कुबेर स्विस बैंक नहीं बल्कि एशिया के टैक्स हेवन्स कहे जाने वाले देशों में अपनी काली कमाई जमा करवा रहे हैं।

बैंक ऑफ इंटरनेशनल सेटलमेंट्स यानी BIS के मुताबिक 2017 से 2015 तक विदेशों में जमा भारतीयों के पैसे में 90 फीसदी तक की बढ़ोतरी हुई। लेकिन केंद्र में मोदी सरकार बनने के बाद और कालेधन के खिलाफ उनके अभियान के बाद लोगों ने स्विस बैंकों से अपना पैसा निकालना शुरु कर दिया और एशिया के टैक्स हेवन्स कहे जाने वाले देशों में अपना पैसा जमाकरना शुरू कर दिया। हालांकि अभी भी 4500 करोड़ की राशि स्विस बैंक में जमा बताई जा रही है। हॉन्ग कॉन्ग, सिंगापुर, मकाऊ, मलयेशिया जैसे एशियन टैक्स हेवन्स में भारतीयों ने विदेशों बैंकों में जमा कुल धन का 53 प्रतिशत हिस्सा जमा किया हुआ है। स्विस बैंको में 2015 में केवल 31 फीसदी धन ही जमा था। 

पनामा पेपर्स के खुलासे में भी यह बात सामने आई थी कि भारत समेत कई अन्य देशों के लोग अपना कालाधन छिपाने के लिए स्विस बैंकों की जगह एशियन टैक्स हेवन्स के बैंकों को प्राथमिकता दे रहे हैं।