पहले ही मैच में राहुल ने जड़ा शतक, बने यह रिकॉर्ड


हरारे (12 जून): जिम्बाब्वे दौरे पर गई टीम इंडिया के बल्लेबाज लोकेश राहुल ने अपने पहले ही मेच में शानदार उपलब्धि हासिल कर इतिहास रच दिया है। डेब्यू मैच में लोकेश राहुल ने अंबाती रायुडू के साथ मिलकर मेजबान टीम के गेंदबाजों की धुनाई करते हुए न सिर्फ शतक जड़ा बल्कि टीम को 9 विकेट से जीत भी दिलाई।

इस जीत के साथ ही लोकेश राहुल भारतीय टीम की ओर से डेब्यू मैच में शतक जड़कर इतिहास रचने वाले पहले भारतीय क्रिकेटर बन गए हैं। लोकेश राहुल ने 115 गेंदों में 7 चौके और 1 छक्के की मदद से नाबाद 100 रन बनाए।

बतौर ओपनर ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी
लोकेश राहुल बतौर ओपनर टेस्ट और वनडे मैच में शतक जड़ने वाले दुनिया के पहले बल्लेबाज बन गए। राहुल ने टेस्ट डेब्यू 2014 में किया था और मध्यक्रम में खेलते हुए पहली और दूसरी पारी में क्रमशः 3 और 1 रन ही बना सके थे। इसके बाद 6 जनवरी 2015 को टेस्ट मैच में ओपनिंग का मौका मिला, जिसमें उन्होंने एक छक्के और 13 चौके की मदद से 110 रन बनाए थे। अब वनडे में बतौर ओपनिंग शतक जड़कर टेस्ट और वनडे में ऐसा करने वाले पहले खिलाड़ी बन गए हैं।

रॉबिन उथप्पा को पीछे छोड़ा
इससे पहले भारतीय टीम की ओर से डेब्यू मैच में सर्वाधिक स्कोर बनाने का रिकॉर्ड रॉबिन उथप्पा के नाम था। उथप्पा ने इंग्लैंड के खिलाफ 2006 में शानदार 86 रनों की पारी खेली थी। लेकिन जिम्बाब्वे के खिलाफ लोकेश राहुल ने शानदार शतक जड़कर यह रिकॉर्ड अपने नाम कर लिया है।

39 साल बाद हुआ पहली बार ऐसा
जिम्बाब्वे से जीत के लिए मिले 169 रनों के लक्ष्य का पीछा करने भारतीय टीम की ओर से दो पदार्पण करने वाले खिलाड़ी लोकेश राहुल और करुण नायर ने ओपनिंग बैट्समैन के तौर पर मैदान पर उतरे। 39 साल बाद यह पहला मौका है, जब पदार्पण करने वाले दो खिलाड़ियों ने भारतीय टीम की ओर से ओपनिंग की। इससे पहले भारतीय टीम की ओर से 1976 में पदार्पण करने वाले खिलाड़ी पार्थसारथी शर्मा और दिलीप वेंगसरकर ने ओपनिंग की थी।

भारतीय टीम का खराब प्रदर्शन
भारतीय टीम ने जिम्बाब्वे से जीत के लिए मिले 169 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए पहले तीस ओवर में सिर्फ 91 रन बनाए जो पिछले दस सालों में सबसे खराब प्रदर्शन हैं।

अंबाती रायुडू के नाम उपलब्धि
भारतीय क्रिकेटर अंबाती रायुडू ने जिम्बाब्वे के खिलाफ नाबाद 62 रनों की पारी खेलने के साथ ही वनडे करियर की 29 पारियों में 1000 रन बनाने के साथ वो संयुक्त रूप से यह उपलब्धि हासिल करने वाले चौथे भारतीय क्रिकेटर बन गए हैं। भारतीय एकदिवसीय टीम के कप्तान एमएस धोनी ने भी 29 पारियों में 1000 रनों के आंकड़े को छुआ था।