डोकलाम में भारतीय सेना 'नो वॉर, नो पीस' की स्थिति में

नई दिल्ली (10 अगस्त): डोकलाम में चीन से विवाद के बीच पूर्वी सीमा पर भारतीय सेना 'नो वॉर, नो पीस' की स्थिति में है। 15 अगस्त को दोनों देशों की सेनाओं के बीच बॉर्डर पर्सनल मीटिंग की स्थिति भी साफ नहीं है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार डोकलाम के करीब सेना की दो ब्रिगेड हैं, जो तनाव की स्थिति पैदा होने से पहले से तैनात हैं। सेना की किसी असामान्य मूवमेंट की जानकारी नहीं है। सेना के मूवमेंट की जानकारी दी गई थी, लेकिन माना जा रहा है कि रखरखाव को ध्यान रखते हुए यह मूवमेंट की गई होगी। तोपों की तैनाती की स्थिति में पहले के मुकाबले कोई बदलाव नहीं किया गया है। चीन की ओर भी किसी मूवमेंट की कोई सूचना नहीं है।

इस बीच 15 अगस्त को दोनों देशों की सेनाओं के बीच बॉर्डर पर्सनल मीटिंग को लेकर स्थिति साफ नहीं है। हालांकि यह मीटिंग समारोह के तौर पर होती है और इसमें सीमा मसलों पर बातचीत नहीं होती। इसका आयोजन पांच जगहों पर किया जाता है - बूम ला और किबितु (अरुणाचल प्रदेश), दौलत बेग ओल्डी और चुशुल (लद्दाख) और नाथूला (सिक्किम)। मीटिंग के लिए चीन को न्योता दिया जाएगा या नहीं, इस पर फैसला आयोजन से दो-तीन दिन पहले किया जाएगा। इससे पहले 1 अगस्त को चीनी सेना पीएलए के स्थापना दिवस पर यह मीटिंग नहीं हो सकी थी। दोनों देशों के बीच फ्लैग मीटिंग का भी इंतजार किया जा रहा है।