पाक सीमा पर घुसपैठ के लिए तैयार आतंकी, सेना ने जारी किया हाई अलर्ट

नई दिल्ली ( 15 फरवरी ): आतंकवादियों के लिए स्वर्ग पाकिस्तान अपनी नापाक हरकतों से बाज नहीं आरहा है। पाकिस्तान लगातार सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ करा रहा है। जम्मू-कश्मीर में नियंत्रण रेखा के आस-पास के इलाकों में आतंकियों की सक्रियता की रिपोर्ट्स के बाद सेना ने एलओसी से सटे सभी इलाकों में जवानों को अलर्ट जारी किया है। पाकिस्तान की तरफ से आतंकी गतिविधियों और सीजफायर तोड़ने की घटनाओं को देखते हुए सेना LoC ऑपरेशन चला रही है।

सेना की ओर से जारी किए गए निर्देशों में जवानों को नियंत्रण रेखा के आस-पास के इलाकों में सख्त निगरानी रखने और किसी अप्रिय घटना की स्थिति में पूरी सख्ती से निपटने के निर्देश दिए गए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, भारतीय सेना पाकिस्तानी आतंकियों के खिलाफ पुंछ, राजौरी और मेंढर में कार्रवाई कर रही है। इस साल भारतीय सेना ने जवाबी कार्रवाई में पाकिस्तान के कई बंकर और जानमाल को नुकसान पहुंचाया है। 2018 में सेना ने 20 पाकिस्तानी को मार गिराया और 7 को घायल कर दिया। इसके बाद पाकिस्तान में सीमावर्ती चौकियों के लिए रेड अलर्ट जारी कर दिया गया है। सूत्रों ने बताया कि सर्जिकल स्ट्राइक के बाद से ऑपरेशन जारी है। पिछले साल सीमा पार 138 रेंजर्स मारे गये थे और 156 घायल हुए थे।

गौरतलब है कि बुधवार को भारतीय सेना की ओर से की गई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में पाकिस्तान के लॉन्चिंग पैड्स पर 300 आतंकियों के सक्रिय होने की बात कही गई थी। बुधवार को उधमपुर में हुई एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में सेना की उत्तरी कमान के प्रमुख लेफ्टिनेंट जनरल देवराज अन्बू ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा था कि पीर पंजाल के दक्षिण में 185-220 आतंकवादी और उत्तर में 190-225 आतंकवादी घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं। 

ले. जनरल अनबू ने कहा कि जम्मू एवं कश्मीर में आतंकवादी हमलों की योजना बनाने में प्रत्यक्ष रूप से पाकिस्तानी सेना का हाथ होता है। सुंजवान सैन्य शिविर पर आतंकवादी हमले के बाद भारतीय कार्रवाई की संभावना के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा, 'नियंत्रण रेखा पर कार्रवाई काफी जटिल और चुनौतीपूर्ण है। मुझे नहीं लगता कि हमें वास्तव में उनके साथ भी जैसे का तैसा करने की जरूरत है।' उन्होंने कहा कि हम अपनी योजना और रणनीति के अनुसार काम करेंगे।