सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत देने पर सेना राजी, आखिरी फैसला मोदी पर

नई दिल्ली(5 अक्टूबर): भारतीय सेना चाहती है कि सरकार पीओके में हुए सर्जिकल स्ट्राइक का वीडियो फुटेज जारी करे। हालांकि इस संबंध अंतिम निर्णय प्रधानमंत्री कार्यालय को लेना है। 

- एक अखबार की रिपोर्ट के अनुसार आर्मी चाहती है कि सरकार सर्जिकल स्ट्राइक के वीडियो जारी कर दे ताकि उन लोगों को जवाब मिल जाए जो सर्जिकल स्ट्राइक पर सवाल उठा रहे हैं। 

- भारतीय सेना के अधिकारियों के मुताबिक आर्मी चाहती है कि भारत इस सबूत को सबके सामने रख दे ताकि उन लोगों को जवाब मिल जाए। जो आरोप लगा रहे हैं कि हमला हुआ ही नहीं। 

- गौरतलब है कि विपक्ष सर्जिकल स्ट्राइक को लेकर सरकार को घेर रही है और सर्जिकल स्ट्राइक के सबूत देने की मांग कर रही है। गौरतलब है कि 

- उरी हमले के बाद भारत ने पीओके में स्थित आतंकी ठिकानों पर 29 सितंबर को तडके सर्जिकल स्ट्राइक किया था। लेकिन पाकिस्तान सर्जिकल स्ट्राइक से इंकार कर रहा है। 

- कांग्रेस नेता संजय निरूपम ने तो सर्जिकल स्ट्राइक को फर्जी करार दे दिया। 

- दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने भी एक वीडियो जारी कहा कि सरकार सर्जिकल स्ट्राइक का सबूत देकर पाकिस्तान के झूठ को बेनकाब करे। 

- आर्मी के शीर्ष रणनीतिकारों ने कहा कि सेना के पास इस बात के पर्याप्त सबूत हैं कि क्रॉस-बॉर्डर हमला बहुत प्रभावी रहा। इस संबंध में विडियो फुटेज के अलावा फोटोग्राफ भी हैं, जिन्हें सैनिकों और अनमैंड एरियल वीकल्स ने शूट किया था।