नस्लीय हमलों के खिलाफ भारतीय-अमेरिकी एकजुट


वॉशिंगटन (26 मार्च): अमेरिका में राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के सत्ता में आने के बाद वहां नस्लीय और धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ अपराधिक घटनाओं में काफी तेजी देखी जा रही है। 20 जनवरी के बाद से अबतक अमेरिका में भारतीयों के खिलाफ भी कई हमले हो चुके हैं। इसमें कई लोगों की जानें भी जा चुकी है।


अमेरिका में नस्लीय घृणा अपराध की बढ़ती घटनाओं पर भारतीय-अमेरिकियों ने चिंता जाहिर की है। साथ ही उन्होंने यह भी कहा है कि वे अमेरिका छोड़ कर कहीं नहीं जाने वाले। कई दौर की बैठक के बाद भारतीय-अमेरिकियों ने संकल्प जताया कि 'हम यहीं रहने वाले हैं'।


साउथ एशियन अमेरिकन्स लीडिंग टुगेदर (SAALT) के सुमन रघुनाथन ने टाउन हॉल चर्चा के दौरान कहा कि बंदूकधारी और राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप क्या कहते हैं, यह अहम नहीं है। यह हमारा देश है, हम यहीं रहने वाले हैं और अप्रवासियों के इस देश में हम अपने लिए उचित और समान स्थान की मांग जारी रखेंगे।