विंडीज के खिलाफ टीम इंडिया के जहन में होंगी यह दो बड़ी बातें...

नई दिल्ली (27 अगस्त): आज के मैच में टीम इंडिया के पास दो बड़े मौके हैं। पहला टी 20 में बादशाहत कायम करने का। अगर टी 20 की ये सीरीज टीम इंडिया जीत जाती है तो नंबर 1 पोजीशन पर काबिज हो सकती है। दूसरा मौका है बदला लेने का। करीब 5 महीने पुराना बदला जब कैरिबियाई खिलाड़ियों ने 120 करोड़ हिंदुस्तानियों का सपना तोड़ दिया था।

31 मार्च 2016 में मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया सेमीफाइनल मैच जिसमें 2007 के बाद टीम इंडिया एक बार फिर से टी 20 फॉर्मेट में चैंपियन बनने की तरफ बढ़ रही थी, लेकिन वेस्टइंडीज की टीम ने 120 करोड़ हिंदुस्तानियों का सपना तोड़ दिया। हर मैच में शानदार बल्लेबाजी करने वाले विराट कोहली निराश थे, कप्तान धोनी थोड़े दुखी थे। क्योंकि ये 1987 और 1996 के वर्ल्ड कप के बाद पहली बार घरेलू मैदान पर टीम इंडिया को किसी वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में हार का सामना करना पड़ा था।

टीम इंडिया के हर खिलाड़ी में इस हार की टीस आज भी है। धोनी की अगुवाई में टीम इंडिया इस हार का बदला लेने के लिए बेताब है। अगर 2 मैचों की टी 20 सीरीज में टीम इंडिया वेस्टइंडीज को हरा देती है तो फिर टीम इंडिया के पास रैंकिंग में नंबर 1 बनने का भी मौका होगा। फिलहाल टी 20 रैंकिंग में टीम इंडिया 128 रेटिंग प्वाइंट्स के साथ नंबर 2 पर है जबकि 132 रेटिंग प्वाइंट्स के साथ न्यूजीलैडं की टीम नंबर 1 पर और 122 रेटिंग प्वाइंट्स के साथ वेस्टइंडीज की टीम नंबर 3 पर।

साफ है कि टीम इंडिया अमेरिका में हर कीमत पर वेस्टइंडीज के खिलाफ जीत दर्ज करना चाहेगी। वैसे भी अमेरिका में पहली बार अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट खेला जा रहा है। धोनी को अमेरिका के इस मैदान पर सावधान रहने की भी जरुरत है क्योंकि कैरेबियाई टीम के कई खिलाड़ी अमेरिका के इस मैदान से अच्छी तरह वाकिफ है, क्योंकि सीपीएल के दौरान वेस्टइंडीज के खिलाड़ियों ने यहां जमकर रन बरसाए हैं। अब देखने वाली बात ये होगी कि अमेरिकी जमीं पर क्रिकेट की पहली टक्कर में बाजी कौन मारता है। फिलहाल इतना तो साफ है कि अगले   कुछ घंटे में अमेरिका क्रिकेट का सबसे बड़ा धूम धड़ाका देखेगा।