Weather Update: तपती गर्मी से फिलहाल राहत नहीं, जानें दिल्ली-एनसीआर में कब होगी बारिश

Weather Update: दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में इन दिनों प्रचंड गर्मी पड़ रही है। सुबह से ही धूप की किरणें ऐसे रहती है मानों जैसे आसमान से आग बरस रही हो। गर्मी की वजह से लोग पसीने से तरबतर हो रहे हैं। इस बीच आज कई इलाकों में आज मौसम में बदलाव देखा जा सकता है।

Weather Update: तपती गर्मी से फिलहाल राहत नहीं, जानें दिल्ली-एनसीआर में कब होगी बारिश
x

Weather Update: दिल्ली-एनसीआर समेत देश के कई हिस्सों में इन दिनों प्रचंड गर्मी पड़ रही है। सुबह से ही धूप की किरणें ऐसे रहती है मानों जैसे आसमान से आग बरस रही हो। गर्मी की वजह से लोग पसीने से तरबतर हो रहे हैं। इस बीच आज कई इलाकों में आज मौसम में बदलाव देखा जा सकता है। मौसम विभाग (IMD) के मुताबिक आज कई इलाकों में मौसम का मिजाज बदल सकता है और तेज हवा के साथ बारिश हो सकती है। आईएमडी ने आज देश के कई हिस्सों में प्रचंड गर्मी के बीच आंधी के साथ बारिश का पूर्वानुमान जताया है।


दिल्ली-एनसीआर में आज गर्मी से थोड़ी राहत मिलती नजर आ रही है। यहां मौसम का मिजाज थोड़ा बदला हुआ नजर आ रहा है। आज सुबह कई इलाकों में बादल नजर आया जिससे लोगों को गर्मी से थोड़ी राहत मिली है। मौसम विभाग के अनुसार, आज दिल्ली-एनसीआर में आंधी के साथ बारिश की संभावना हैं।


मौसम विभाग के मुताबिक देश के अधिकांश हिस्सों में आज मौसम में कोई खास बदलाव नहीं होगा। मौसम विभाग के अनुसार आज उत्तर प्रदेश, पंजाब, हरियाणा, मध्य प्रदेश, राजस्थान समेत कई इलाकों में प्रचंड गर्मी के साथ-साथ लू चलने की भी संभावना है।


इस बीच मौसम विभाग ने अगले पांच दिनों तक अरुणाचल प्रदेश, असम-मेघालय और उप-हिमालयी पश्चिम बंगाल और सिक्किम में भारी बारिश का पूर्वानुमान जताया है। इसके अलावा अगले कुछ दिनों के दौरान केरल-माहे, तमिलनाडु, कर्नाटक, लक्षद्वीप और रायलसीमा में भी बारिश की भविष्यवाणी की है।


मौसम विभाग के पूर्वानुमान के मुताबिक इस साल 27 मई से दक्षिण-पश्चिम मॉनसून की शुरुआत केरल से हो जायेगी। एमआईडी का कहना है कि अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह और आसपास के इलाकों में दक्षिण-पश्चिमी हवाओं के मजबूत होने के कारण बारिश हो रही है। 


आइएमडी के अनुसार दक्षिण-पश्चिम मॉनसून के अगले 2-3 दिनों के दौरान दक्षिण बंगाल की खाड़ी के कुछ और हिस्सों, पूरे अंडमान द्वीप समूह के अलावा पूर्व-मध्य बंगाल की खाड़ी के कुछ हिस्सों में आगे बढ़ने के लिए अनुकूल परिस्थितियां हैं।


Next Story