29 मई से पहले हो सकता था सिद्धू मूसे वाला का मर्डर, ऐसे बची थी जान

दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ के बताया कि राजनेता और पंजाबी गायक सिद्धू मूसे वाला की हत्या से दो दिन पहले 27 मई को हत्या की जा सकती थी।

29 मई से पहले हो सकता था सिद्धू मूसे वाला का मर्डर, ऐसे बची थी जान
x

नई दिल्ली: दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ के बताया कि राजनेता और पंजाबी गायक सिद्धू मूसे वाला की हत्या से दो दिन पहले 27 मई को हत्या की जा सकती थी।


मुख्य आरोपी प्रियव्रत फौजी (जो गैंगस्टर के 'बोलेरो मॉड्यूल' का मुखिया था) ने पूछताछ के दौरान पुलिस को बताया। प्रियव्रत ने पूछताछ में बताया कि 27 मई को सिद्धू मूसे वाला अकेला वाहन में अपने घर से निकला था।


प्रियवत ने बताया पुलिस, ''27 मई को, सिद्धू कार में अकेले निकल गए थे, जिसके बाद बोलेरो और कोरोला कारों में निशानेबाजों ने सिद्धू का पीछा किया। सिद्धू एक केस के सिलसिले में कोर्ट के लिए निकले थे और शूटर की कार ने उनकी कार का पीछा करना शुरू कर दिया, लेकिन मूसे वाला की कार एक गांव की सड़क के बजाय मुख्य राजमार्ग पर तेजी से आगे बढ़ने लगी और शूटर कार का पीछा नहीं कर सका और योजना विफल हो गई।''


इस बीच, पुलिस इस बात की भी जांच कर रही है कि क्या आरोपियों द्वारा इस्तेमाल किए गए हथियार पाकिस्तान से ड्रोन के जरिए मिले थे और हथियार भारत में नहीं बने थे।






और पढ़िए – महाराष्ट्र में तेजी से बदल रहा है सियासी घटनाक्रम, आज शाम इस्तीफा दे सकते हैं उद्धव ठाकरे





सूत्र ने कहा, ''हथियार, ग्रेनेड लांचर, हैंड ग्रेनेड, इलेक्ट्रॉनिक डेटोनेटर और राइफल के प्रकार बरामद किए गए। ये हथियार भारत में नहीं बने थे।' स्पेशल सेल के सूत्रों ने कहा कि इस तरह के हथियार हाल ही में पाकिस्तान में पाए गए थे और यह संदेह है कि ये हथियार भी उसी खेप का हिस्सा हो सकते हैं।


पुलिस सूत्र ने कहा, ''लॉरेंस बिश्नोई का पाकिस्तान में अच्छा नेटवर्क है। इसके अलावा पंजाब का गैंगस्टर जग्गू भगवानपुरी भी पाकिस्तान से ड्रग्स लाता था। पाकिस्तान से मंगवाई गई कम से कम 40 पिस्तौलें पकड़ी गईं। बिश्नोई गिरोह पाकिस्तान, मध्य प्रदेश, मुंगेर से हथियार मंगवाता रहा है। बिश्नोई का एक नेटवर्क भी अमेरिका में बैठा है, जो विभिन्न सीमाओं से हथियारों को पंजाब तक पहुंचाता है।''


29 मई को पंजाब के मनसा जिले में अज्ञात हमलावरों ने गायक-राजनेता सिद्धू मूसे वाला की गोली मारकर हत्या कर दी थी। सिद्धू मूसे वाला की राज्य सरकार द्वारा सुरक्षा कम करने के एक दिन बाद गोली मारकर हत्या कर दी गई थी। उनके साथ जीप में यात्रा कर रहे उनके चचेरे भाई और एक दोस्त भी हमले में घायल हो गए।








और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story