Presidential Election 2022: यशवंत सिन्हा होंगे राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार, 27 जून को दाखिल कर सकते हैं नामांकन

Presidential Election: देश के नए राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर जारी सियासी घमासान के बीच विपक्ष ने अपने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है। विपक्ष ने यशवंत सिन्हा को अपना राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है।

Presidential Election 2022: यशवंत सिन्हा होंगे राष्ट्रपति पद के लिए विपक्ष के उम्मीदवार, 27 जून को दाखिल कर सकते हैं नामांकन
x

Presidential Election: देश के नए राष्ट्रपति के चुनाव को लेकर जारी सियासी घमासान के बीच विपक्ष ने अपने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के नाम का ऐलान कर दिया है। विपक्ष ने यशवंत सिन्हा को अपना राष्ट्रपति पद का उम्मीदवार घोषित कर दिया है। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने विपक्ष की बैठक के बाद इस बात की घोषणा करते हुए कहा, 'हमने (विपक्षी दलों ने) सर्वसम्मति से फैसला किया है कि यशवंत सिन्हा राष्ट्रपति चुनाव के लिए विपक्ष के आम उम्मीदवार होंगे।' माना जा रहा है कि यशवंत सिन्हा 27 जून को अपना नामांकन दाखिल करेंगे।






और पढ़िए – एकनाथ शिंदे शिवसेना के वफादार, हमारे विधायक जल्द लौटेंगे: संजय राउत











 


राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के चुनाव के लिए विपक्ष की बैठक में शामिल होने से पहले यशवंत सिन्हा ने ट्वीट कर कहा  कि टीएमसी में उन्होंने मुझे जो सम्मान और प्रतिष्ठा दी, उसके लिए मैं ममता बनर्जी का आभारी हूं। अब एक समय आ गया है, जब एक बड़े राष्ट्रीय उद्देश्य के लिए मुझे पार्टी से हटकर विपक्षी एकता के लिए काम करना चाहिए। मुझे यकीन है कि पार्टी मेरे इस कदम को स्वीकार करेगी।




गौरतलब है कि विपक्षी दलों की पिछली बैठक में एनसीपी प्रमुख शरद पवार का नाम भी तृणमूल कांग्रेस प्रमुख ममता बनर्जी की ओर से प्रस्तावित किया गया था, लेकिन पवार ने दावेदारी स्वीकार करने से इनकार कर दिया था। इसके अलावा गोपाल कृष्ण गांधी का नाम भी आया था। कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने कहा कि यशवंत सिन्हा के कंपेन को आगे बढ़ाने के लिए एक कमेटी का गठन किया गया है। वरिष्ठ कांग्रेस सांसद मल्लिकार्जुन खड़गे ने कहा कि हम चाहते हैं कि ऐसा प्रत्याशी सामने रखा जाए जो लोकतंत्र की रक्षा कर सके। खड़गे ने आरोप लगाया कि सरकार ने राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार के लिए आम सहमति बनाने का कोई गंभीर प्रयास नहीं किया।





और पढ़िए – Maharashtra Political Crisis: शरद पवार का बड़ा बयान, कहा- हम उद्धव के साथ, तीसरी बार हो रही सरकार गिराने की साजिश





आपको बता दें कि राष्ट्रपति कोविंद का कार्यकाल 24 जुलाई को खत्म हो रहा है और 25 जुलाई को देश के नए (16वें) राष्ट्रपति को शपथ लेनी है। चुनाव आयोग के मुताबिक अगले राष्ट्रपति के चुनाव के लिए 15 जुलाई को नामांकन दाखिल किए जाएंगे। 18 जुलाई को मतदान होगा जबकि 21 जुलाई को मतगणना होगी।


गौरतलब है कि राष्ट्रपति पद के लिए एनडीए का पलड़ा भारी दिख रहा है। और उसे अपने राष्ट्रपति उम्मीदवार को जीताने के लिए सिर्फ दो फीसदी वोटों की ही कमी दिख रही है। माना जा रहा है कि जगन मोहन रेड्डी की वायएसआर कांग्रेस और नवीन पटनायक की बीजेडी एनडीए उम्मीदवार को समर्थन कर सकती है। 


हालांकि विपक्षी खेमा भी बहुत कमजोर नहीं है लेकिन पंजाब में आप की सरकार बनने के बाद केजरीवाल की महात्वाकांक्षा बढ़ चुकी है। तेलंगाना के मुख्यमंत्री केसीआर की निगाहें भी दिल्ली पर टिकी हैं। ऐसे में ममता बनर्जी की अगुवाई में राजनीति करना शायद उन्हें रास नहीं आ रहा हो।








और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story