करहल सीट से अखिलेश यादव के खिलाफ बीजेपी ने इस नेता को बनाया उम्मीदवार

सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मैनपुरी के करहल से नामांकन दर्ज कर दिया, जिसके बाद बीजेपी ने उनको टक्कर देने के लिए सांसद और मंत्री एसपी सिंह बघेल को मैदान में उतारा है।

करहल सीट से अखिलेश यादव के खिलाफ बीजेपी ने इस नेता को बनाया उम्मीदवार
x

कुमार गौरव, नई दिल्ली: सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने मैनपुरी के करहल से नामांकन दर्ज कर दिया, जिसके बाद बीजेपी ने उनको टक्कर देने के लिए सांसद और मंत्री एसपी सिंह बघेल को मैदान में उतारा है। बघेल ने भी अखिलेश के बाद करहल सीट से पर्चा दाखिल कर दिया है।


अखिलेश यादव ने पर्चा दाखिल करने से कहा कि ये ‘नॉमिनेशन' एक ‘मिशन' है, क्योंकि ये चुनाव प्रदेश और देश की अगली सदी का इतिहास लिखेगा। करहल विधानसभा क्षेत्र मैनपुरी संसदीय निर्वाचन क्षेत्र का हिस्सा है जिसका प्रतिनिधित्व समाजवादी पार्टी के संस्थापक मुलायम सिंह यादव करते हैं।



और पढ़िए – नागालैंड नरसंहार व कोविड से हुई मौतों पर एक शब्द नहीं कहा: राष्ट्रपति के अभिभाषण पर बोले मनीष तिवारी





अखिलेश ने कहा, "ये क्षेत्र बिल्कुल घर के पास का क्षेत्र है, घर है, नेताजी का और समाजवादी पार्टी का यहां से बहुत पुराना रिश्ता रहा है और यहां के लोगों ने समाजवादी पार्टी के साथ खड़े होकर एक सकारात्मक राजनीति को आगे बढ़ाया है, मुझे उम्मीद है कि इस चुनाव में जो नकारात्मक राजनीति करते हैं, उत्तर प्रदेश से उनको जनता हटाएगी।”




कौन हैं एसपी सिंह बघेल?
सांसद प्रो. एसपी सिंह बघेल उत्तर प्रदेश के औरैया जिले के भटपुरा के मूल निवासी हैं। उत्तर प्रदेश पुलिस में बतौर सब इंस्पेक्टर के रूप में तैनात रहे बघेल 1989 में मुलायम सिंह यादव के मुख्यमंत्री बनने के बाद उनकी सुरक्षा में शामिल हो गए। बघेल से प्रभावित मुलायम सिंह यादव ने उनको जलेसर सीट से समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर 1998 में पहली बार उतारा था। एसपी सिंह बघेल ने अपने पहले ही चुनाव में जीत दर्ज की। उसके बाद दो बार सांसद चुने गए। 2010 में बसपा ने उन्हें राज्यसभा में भेजा, साथ ही राष्ट्रीय महासचिव की जिम्मेदारी भी दी। 2014 में फिरोजाबाद लोकसभा से सपा के राष्ट्रीय महासचिव प्रो. रामगोपाल यादव के पुत्र अक्षय यादव के सामने चुनाव लड़े, लेकिन चुनाव हार गए थे।


2014 में मिली हार के बाद एसपी सिंह बघेल ने राज्यसभा से इस्तीफा देकर भाजपा की सदस्यता ली। भाजपा पिछड़ा मोर्चा के राष्ट्रीय अध्यक्ष बना गए। विधानसभा चुनाव 2017 में टूंडला सुरक्षित सीट से भाजपा विधायक बने। इसके बाद उन्हें मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की टीम में शामिल किया गया और उन्होंने पशुधन, लघु सिंचाई एवं मत्स्य विभाग संभाला।


उत्तर प्रदेश में 10 फरवरी से 7 चरणों में मतदान होना है। आखिरी चरण के लिए 7 मार्च को वोटिंग होगी और नतीजे 10 मार्च को आएंगे। चुनाव से पहले बीजेपी, सपा, कांग्रेस और बसपा समेत सभी पार्टियां पूरा दम लगा रही हैं।



और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें

Next Story