जुमे की नमाज के लिए उमड़ी भीड़ के कारण मस्जिद के दरवाजे बंद, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 6 जुलाई तक टाली सुनवाई

ज्ञानवापी के आसपास जुमे की नमाज को लेकर माहौल तनावपूर्ण बन गया था। मस्जिद इंतजामिया कमेटी की अपील के बाद भी बड़ी संख्या में नमाजी मस्जिद के गेट पर पहुंचे। हालांकि मस्जिद कमिटी और पुलिस दोनों ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह दूसरी मस्जिद में जाए।

जुमे की नमाज के लिए उमड़ी भीड़ के कारण मस्जिद के दरवाजे बंद, इलाहाबाद हाई कोर्ट ने 6 जुलाई तक टाली सुनवाई
x

नई दिल्ली: ज्ञानवापी के आसपास जुमे की नमाज को लेकर माहौल तनावपूर्ण बन गया था। मस्जिद इंतजामिया कमेटी की अपील के बाद भी बड़ी संख्या में नमाजी मस्जिद के गेट पर पहुंचे। हालांकि मस्जिद कमिटी और पुलिस दोनों ने लोगों से अपील करते हुए कहा कि वह दूसरी मस्जिद में जाए।


सूत्रों ने बताया कि वजूखाना सील होने के कारण ड्रम में पानी का इंतजाम किया गया है। ज्यादा लोगों के आने से परेशानी हो सकती है, इसलिए नमाजियों के आने पर रोक लगाई गई है, जिससे वह नाराज हैं। हालांकि यहां पर भारी पुलिस बल मौजूद है।





और पढ़िए – 'शाम तक 10 अर्धसैनिक या केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) की कंपनियां पहुंच जाएंगी पंजाब'




'मस्जिद आने से पहले लोगों को घर पर 'वज़ू' करने के लिए कहा है': मस्जिद समिति
इंतेज़ामिया मस्जिद समिति के एक सदस्य ने कहा, "हमने लोगों से मस्जिद में आने से पहले घर पर 'वज़ू' करने के लिए कहा है। हालांकि, हमने पानी की जरूरत वाले लोगों के लिए भी वैकल्पिक व्यवस्था की है।" यह ध्यान दिया जाना चाहिए कि अदालत के आदेश पर 'वजुखाना' को सील कर दिया गया है।


इलाहाबाद हाईकोर्ट ने 6 जुलाई तक के लिए स्थगित की
इलाहाबाद हाईकोर्ट ने शुक्रवार को वाराणसी के काशी-विश्वनाथ मंदिर-ज्ञानवापी मस्जिद मामले में सुनवाई 6 जुलाई तक के लिए टाल दी है। इलाहाबाद हाईकोर्ट को तय करना है कि 31 साल पहले 1991 में वाराणसी की जिला अदालत में दायर मामले की सुनवाई अब हो सकती है या नहीं। मुस्लिम पक्ष का कहना है कि केंद्रीय धार्मिक उपासना अधिनियम 1991 के तहत अयोध्या को छोड़कर किसी अन्य धार्मिक स्थल के खिलाफ मुकदमा दायर नहीं किया जा सकता है।


'आज के आदेश का पालन हर निकाय को करना होगा'
ज्ञानवापी मस्जिद सर्वेक्षण रिपोर्ट पर न्यायालय द्वारा नियुक्त विशेष सहायक आयुक्त एडवोकेट विशाल सिंह ने कहा, "सुप्रीम कोर्ट द्वारा आज पारित आदेश का सभी को पालन करना होगा। मैंने अपनी विस्तृत रिपोर्ट फोटो और वीडियो साक्ष्य के साथ अदालत को सौंप दी है।''





और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें



Next Story