यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा, ताउम्र सलाखों के पीछे रहेगा

अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पटियाला हाउस कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में उम्रकैद की सजा सुनाई है। पटियाला हाउस स्थित विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह की अदालत ने दोषी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को आतंक के लिए फंडिंग मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई।

यासीन मलिक को उम्रकैद की सजा, ताउम्र सलाखों के पीछे रहेगा
x

नई दिल्ली: अलगाववादी नेता यासीन मलिक को पटियाला हाउस कोर्ट ने टेरर फंडिंग केस में उम्रकैद की सजा सुनाई है। पटियाला हाउस स्थित विशेष न्यायाधीश प्रवीण सिंह की अदालत ने दोषी अलगाववादी नेता यासीन मलिक को आतंक के लिए फंडिंग मामले में उम्रकैद की सजा सुनाई। फैसला सुनाते हुए जज ने कहा कि सभी अपराधों में अलग-अलग सजा व जुर्माना किया गया। हालांकि अधिकतम सजा उम्रकैद है। सभी सजाएं एक साथ चलेंगी।




और पढ़िए - जम्मू-कश्मीर: सड़क से फिसलकर गहरी खाई में गिरी 'टवेरा', कम से कम सात लोगों की मौत





19 मई की सुनवाई के दौरान यासीन अपने गुनाह कबूल कर चुका है। उसने माना कि वो कश्मीर में आतंकी गतिविधियों में शामिल रहा है। यासीन मलिक को सजा के बीच कश्मीर घाटी में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है और यासीन मलिक के घर पर ड्रोन से नजर रखी जा रही है। यही नहीं अदालत परिसर में भी सुरक्षा व्यवस्था बेहद कड़ी थी और फैसले से पहले डॉग स्क्वॉड के जरिए निगरानी की गई। 


यासीन मलिक पर आतंकी गतिविधियों में शामिल होने, टेरर फंडिंग करने, आतंकी साजिश रचने और भारत के खिलाफ युद्ध छेड़ने जैसे आरोपों में कई मामले दर्ज हैं। भारतीय वायुसेना के 4 निहत्थे अफसरों, पूर्व होम मिनिस्टर मुफ्ती मोहम्मद सईद की बेटी के अपहरण समेत कई अन्य मामलों में भी यासीन मलिक आरोपी है।


रिपोर्ट्स के मुताबिक कश्मीर के लाल चौक की कुछ दुकानों सहित मैसूमा और आसपास के इलाकों में ज्यादातर दुकानें बंद हैं। पुराने शहर के कुछ इलाकों के बाजार भी बंद रहे, हालांकि आम परिवहन सामान्य रहा। कई जगहों पर भारी सुरक्षाबल तैनात किए गए हैं।




और पढ़िए - जम्‍मू कश्‍मीर: आतंकियों की गोली का निशाना बनी टीवाी एक्ट्रेस, हुई मौत




 NIA ने मांगी थी फांसी की सजा

इसके पहले NIA ने टेरर फंडिंग में दोषी  यासीन मलिक के लिए फांसी की सजा दिए जाने की मांग की थी। एनआईए ने कहा कि यासीन मलिक ने जिस तरह के जुर्म किए हैं, उसे देखते हुए मलिक को फांसी से कम की सजा नहीं दी जानी चाहिए। वहीं यासीन मलिक ने केस की सुनवाई के दौरान खुद भी अपना गुनाह कबूल किया था। यासीन मलिक ने कोर्ट में कहा कि मुझे जब भी कहा गया मैंने समर्पण किया, बाकी कोर्ट को जो ठीक लगे वो उसके लिए तैयार है।  







और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story