कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने बीजेपी और संघ पर बोला हमला, कहा- आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है बीजेपी

लंदन के कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में आइडियाज फॉर इंडिया सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी ने बीजेपी और संघ पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले जैसा भारत हासिल करना चाहती है और इसके लिए लड़ाई लड़ रही है।

कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में राहुल ने बीजेपी और संघ पर बोला हमला, कहा- आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है बीजेपी
x

नई दिल्ली: लंदन के कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी में आइडियाज फॉर इंडिया सम्मेलन में हिस्सा लेने पहुंचे राहुल गांधी ने बीजेपी और संघ पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पहले जैसा भारत हासिल करना चाहती है और इसके लिए लड़ाई लड़ रही है।


राहुल ने आगे कहा कि भारत में हालात ठीक नहीं, बीजेपी ने चारों तरफ केरोसिन छिड़क रखा है और बीजपी हमारी आवाज को दबाने की कोशिश कर रही है। उन्होंने कहा, ''भारत में लोकतंत्र एक वैश्विक सार्वजनिक भलाई है। हम अकेले ऐसे लोग हैं, जिन्होंने हमारे अद्वितीय पैमाने पर लोकतंत्र का प्रबंधन किया है।''


पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा, ''भारत उन संस्थानों पर हमले देख रहा है, जिन्होंने देश का निर्माण किया है, जिस पर अब डीप स्टेट का कब्जा है।'' उन्होंने कहा, "हम मानते हैं कि भारत इसके लोग हैं। लेकिन भाजपा और आरएसएस का मानना है कि यह भूगोल है। हम सिर्फ भाजपा से नहीं लड़ रहे हैं, यह अब शुद्ध राजनीतिक लड़ाई नहीं है। मीडिया पर भाजपा का शत-प्रतिशत नियंत्रण है।''



और पढ़िए – ज्ञानवापी में मिले शिवलिंग पर आपत्तिजनक पोस्ट करने पर दिल्ली यूनिवर्सिटी का एसोसिएट प्रोफेसर गिरफ्तार





उन्होंने कहा, ''कांग्रेस भारत को फिर से हासिल करने के लिए लड़ रही है। यह अब एक वैचारिक लड़ाई है। उनकी पार्टी अंदरूनी कलह, विद्रोह, दलबदल और चुनावी हार से जूझ रही है।''


कांग्रेस नेता ने दावा किया कि भाजपा, रोजगार में तेज गिरावट के बावजूद, "ध्रुवीकरण और मीडिया के कुल वर्चस्व" के कारण भारत में सत्ता में बनी हुई है।





और पढ़िए – सिद्धू ने पहली रात जेल में नहीं खाया खाना, सिर्फ दवा ली




''भाजपा ने चारों तरफ मिट्टी का तेल छिड़का है।''
राहुल गांधी ने सत्तारूढ़ दल पर तीखा हमला करते हुए कहा, "हम कह रहे हैं, हमारे पास एक ऐसा भारत है जहां अलग-अलग विचार मौजूद हो सकते हैं और हम बातचीत कर सकते हैं। लोग कहते हैं कि हमारे पास बीजेपी जैसा कैडेट है। हम कहते हैं, अगर हमारे पास बीजेपी जैसा कैडेट है, तो हम बीजेपी होंगे। भाजपा आवाज दबा रही है। हम सुनते हैं। हम लोगों को सुनने और इसे मेज पर रखने के लिए डिज़ाइन किए गए हैं।''


भारत में मानवाधिकारों के उल्लंघन की घटनाओं को अमेरिका द्वारा उठाए जाने के बारे में बोलते हुए राहुल गांधी ने कहा, ''हमें यह बताने की जरूरत नहीं है कि भारत में ध्रुवीकरण है। हम ध्रुवीकरण से लड़ रहे हैं। कांग्रेस यही कर रही है। विपक्ष ऐसा कर रहा है। भारत में लोकतंत्र एक वैश्विक सार्वजनिक अच्छा है। हम अकेले ऐसे लोग हैं, जिन्होंने हमारे पास जितने पैमाने पर लोकतंत्र का प्रबंधन किया है। अगर वह टूटता है, तो यह उनके लिए समस्या पैदा करने वाला है।''




रूस-यूक्रेन युद्ध पर
राहुल गांधी से पूछा गया कि अमेरिका और रूस दो प्रमुख शक्तियां थीं, लेकिन चीन के उदय के साथ दो प्रतिस्पर्धी शक्तियां हैं, भारत बीच में है। भारत को इस रिश्ते को कैसे संभालना चाहिए।


उन्होंने कहा, "बहूत सावधानी से। पहले हमारे पास स्थलीय दृष्टि थी। फिर समुद्री दृष्टि आई। चीनी जो पेशकश कर रहे हैं, वह समृद्धि है और पश्चिम नहीं है। वे बिना कोई विकल्प बताए सिर्फ 'चीन को रोको' कह रहे हैं। यही भारत को करने की जरूरत है। 1990 से लेकर 2012 तक हमारे पास अपने देश के लिए एक सफल विजन था। विपक्ष के लिए काम भारत के लोगों को एक नया दृष्टिकोण देना है। भारत एक ऐसे दृष्टिकोण को स्वीकार नहीं करने जा रहा है, जो उसके गले से नीचे उतर गया हो।"




और पढ़िए – राज ठाकरे का अयोध्या दौरा होगा रद्द, सामने आई यह बड़ी वजह!




चीन के साथ तनाव
कांग्रेस नेता ने कहा, "हमें इस जटिल स्थिति को प्रबंधित करने की आवश्यकता है और इसके बारे में सतही तरीके से नहीं सोच सकते हैं। पंचशील का विचार है। विदेश सेवा और विदेश मामलों में हमारे पास बहुत बड़ी क्षमताएं हैं। जब आप राष्ट्रीय स्तर पर बातचीत को दबाते हैं, जब आप पीएम के कार्यालय में बातचीत को दबाते हैं - पीएम का रवैया न सुनने का होता है और इसलिए नौकरशाह भी सुनना नहीं चाहते हैं, कोई बातचीत नहीं होती है।''


उन्होंने कहा, ''चीनी सैनिक भारत के अंदर बैठे हैं और मैं देख रहा हूं कि यूक्रेन में वास्तव में क्या हो रहा है। कृपया महसूस करें कि जो हो रहा है (यूक्रेन और भारत में) उसके समानांतर हैं।''


जाति व्यवस्था पर
मनुस्मृति पर सबसे बड़ा हमला भारत का संविधान है। कांग्रेस अपने कार्यों के माध्यम से देश की सामाजिक व्यवस्था पर हमला करती रही है। हम मूल रूप से मानते हैं कि भारत और भारत में हर एक इंसान को समान अधिकार और समान अवसर दिए जाने चाहिए। ऐसा करोगे तो भारत बचेगा। नहीं तो यह टूट जाएगा।''





और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें






Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story