Agnipath scheme: अग्निवीरों को पेंशन नहीं मिलने पर वरुण गांधी ने पूछा- सांसद और विधायकों को पेंशन क्यों?

भाजपा सांसद वरुण गांधी ने कांट्रैक्ट के आधार पर सशस्त्र रक्षा कर्मियों की भर्ती के लिए सरकार की नई 'अग्निपथ' योजना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। वरुण गांधी ने अग्निवीरों को पेंशन का प्रावधान नहीं करने की सरकार की योजना पर सवाल उठाया।

Agnipath scheme: अग्निवीरों को पेंशन नहीं मिलने पर वरुण गांधी ने पूछा- सांसद और विधायकों को पेंशन क्यों?
x

नई दिल्ली: भाजपा सांसद वरुण गांधी ने कांट्रैक्ट के आधार पर सशस्त्र रक्षा कर्मियों की भर्ती के लिए सरकार की नई 'अग्निपथ' योजना को लेकर केंद्र सरकार पर निशाना साधा। वरुण गांधी ने अग्निवीरों को पेंशन का प्रावधान नहीं करने की सरकार की योजना पर सवाल उठाया।


बीजेपी सांसद ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल पर लिखा, "अल्पावधि की सेवा करने वाले अग्निवीर पेंशन के हकदार नही हैं तो जनप्रतिनिधियों को यह ‘सहूलियत' क्यों? राष्ट्ररक्षकों को पेंशन का अधिकार नहीं है तो मैं भी खुद की पेंशन छोड़ने को तैयार हूं। क्या हम विधायक/सांसद अपनी पेंशन छोड़ यह नहीं सुनिश्चित कर सकते कि अग्निवीरों को पेंशन मिले?''






और पढ़िए – राष्ट्रपति उम्मीदवार यशवंत सिन्हा को केंद्र ने दी 'जेड' श्रेणी की सुरक्षा







केंद्र ने 14 जून को भारतीय युवाओं के लिए सशस्त्र बलों में सेवा करने के लिए एक नई अल्पकालिक भर्ती नीति का अनावरण किया। अग्निपथ नामक यह योजना 17.5 से 21 वर्ष की आयु के युवाओं को चार साल की अवधि के लिए तीन सेवाओं में से किसी एक को 'अग्निपथ' के रूप में शामिल करने में सक्षम बनाएगी। प्रत्येक बैच से 25 प्रतिशत अग्निवीरों को सशस्त्र बलों में स्थायी नौकरी के लिए चुना जाएगा और शेष को बिना किसी ग्रेच्युटी या पेंशन लाभ के ड्यूटी से मुक्त किया जाएगा।


नई योजना से नाराज युवाओं ने देश भर में बड़े पैमाने पर विरोध प्रदर्शन किया, जिसमें विभिन्न हिस्सों में रेलवे, सार्वजनिक और सार्वजनिक संपत्तियों को तोड़ दिया गया, आग लगा दी गई या हमला किया गया। सरकार ने एकमुश्त छूट के रूप में ऊपरी आयु सीमा 21 से बढ़ाकर 23 कर दी है।


सैन्य नेतृत्व ने कहा था कि अग्निपथ योजना को वापस नहीं लिया जाएगा, यह कहते हुए कि विरोध और हिंसा में भाग लेने वालों को भर्ती नहीं किया जाएगा।


युवाओं में असंतोष
यह पहली बार नहीं है, जब फिलभीत के भाजपा सांसद ने अग्निपथ योजना को लेकर केंद्र पर निशाना साधा है। इससे पहले, उन्होंने कहा था कि इस योजना से युवाओं में अधिक असंतोष पैदा होगा और सरकार से अपना रुख स्पष्ट करने को कहा था।





और पढ़िए – 2002 गुजरात दंगा: SC ने पीएम मोदी को क्लीन चिट देने के खिलाफ याचिका को किया खारिज





उन्होंने अग्नि‍वीरों को नौकरी के अवसर प्रदान करने की केंद्र सरकार की मंशा पर भी संदेह जताया। उन्होंने रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह को पत्र लिखकर योजना पर सरकार का रुख स्पष्ट करने का आग्रह किया था। केंद्र सरकार ने पिछले कुछ दिनों में सशस्त्र बलों में अग्निपथ भर्ती योजना से जुड़ी आशंकाओं को दूर करने के लिए कई संशोधन और समर्थन के उपाय किए हैं।

केंद्र में गृह मंत्रालय और कई राज्य सरकारों ने घोषणा की है कि पुलिस बलों में रिक्त पदों को भरने के लिए योजना के माध्यम से भर्ती किए गए युवा सैनिकों को प्राथमिकता दी जाएगी।







और पढ़िए – देश से जुड़ी खबरें यहाँ पढ़ें





Click Here - News 24 APP अभी download करें

Next Story